लाइव टीवी

चूड़धार यात्रा के दौरान ऑक्सीजन की कमी के चलते 33 वर्षीय डॉक्टर की मौत

satish sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: November 24, 2019, 1:05 PM IST
चूड़धार यात्रा के दौरान ऑक्सीजन की कमी के चलते 33 वर्षीय डॉक्टर की मौत
चूड़धार यात्रा के दौरान कोलकाता के एक युवा डॉक्टर की मौत हो गई.

सिरमौर जिले में चूड़धार (Chuddhar) यात्रा के दौरान पीजीआई, चंडीगढ़ के एक युवा डॉक्टर की मौत (Doctor Death) हो गई. मृतक का नाम डॉ. सौगात भटनागर (Suagat Bhatnagar) है. डॉक्टर की उम्र 33 वर्ष थी.

  • Share this:
सिरमौर. हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में चूड़धार (Chuddhar) यात्रा के दौरान पीजीआई, चंडीगढ़ के एक युवा डॉक्टर की मौत (Doctor Death) हो गई. मृतक की शिनाख्त हो गई है. मृतक का नाम डॉ. सौगात भटनागर (Suagat Bhatnagar) है. डॉक्टर की उम्र 33 वर्ष थी. वह पीजीआई में ब्लड स्पेशलिस्ट के पद पर तैनात थे.  चूड़धार यात्रा के दौरान ऑक्सीज़न की कमी के चलते सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. डॉक्टर सौगात को बचाने के लिए नोहराधार से पुलिस के 5 जवान, डॉक्टरों की टीम व  भारी संख्या में स्थानीय ग्रामीण चूड़धार के लिए रवाना हुए थे. इसके अलावा राजस्व विभाग के 6 कर्मचारी भी चूड़धार के लिए गए थे.

बताया जा रहा है कि डॉक्टर का वजन काफी ज्यादा था, जिस कारण उन्हें चढ़ाई पर सांस की दिक्कत पैदा होने लगी और उनकी दिल की धड़कने बंद हो गई.

डॉ. सौगात अपनी दोस्त के साथ चूड़धार यात्रा पर गए थे

पुलिस प्रशासन और स्थानीय लोगों की सहायता से डॉक्टर के शव को तीसरी नामक जगह से नोहराधार पहुंचाया गया है. डॉ. सौगात अपनी दोस्त जैस्मीन के साथ चूड़धार यात्रा के निकले थे. डॉ. सौगात पश्चिमी बंगाल की राजधानी कोलकाता के निवासी थे. संगड़ाह पुलिस थाना के प्रभारी जीत राम ने मामले की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि शव का पोस्टमार्टम करने के लिए राजगढ़ अस्पताल लाया गया है.

saugat
लोगों की सहायता से डॉक्टर सौगात को नोहराधार पहुंचाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित किया गया.


रात को डॉक्टर की तबियत बिगड़ गई और वह बेहोश हो गए

बीते शुक्रवार को यह लोग तीसरी नामक स्थान पर पहुंचे. तीसरी के नजदीक जब पहुंचे तो खड़ी चढ़ाई के चलते डॉक्टर की सांसें फूलने लगी. तीसरी के समीप पहुंचे तो डॉक्टर भटनागर ने आगे न जाने की बात कही, वह वहीं ढाबे में रुक गए जबकि साथी जेस्मीन चूड़धार निकल गई. शाम को जेस्मीन भी ढाबे पर पहुंची और रात को दोनों वहीं रुक गए. रात को डॉक्टर की तबियत बिगड़ गई और वह बेहोश हो गए. शुक्रवार की देर शाम तक जब वह होश में नहीं आए तब जेस्मीन ने देर शाम को 100 पर कॉल कर मदद मांगी. पुलिस ने यह सूचना आगे जिला प्रसाशन नोहराधार तहसील व नोहराधार पुलिस को दी.यहां भी पढ़ें: ससुराल में बेटी की हुई हत्या, गुस्से में मायके वालों ने घर के बाहर जला डाला शव

हिमाचली बच्चे गोद लेने में दिखा रहे रूचि विदेशी, इन देशों में पलेंगे ये बच्चे

7वीं कक्षा पास किसान ने बनाई 6 हजार रुपये की लागत से मक्का निकालने की मशीन

सात दिन से लापता थी 90 वर्षीय बुजुर्ग, घर के पास खेत से मिला शव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ (पंजाब) से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 24, 2019, 1:05 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर