लाइव टीवी

जंगल के बीच बसे इस गांव में सभी बुनियादी सुविधाएं मौजूद
Nahan News in Hindi

Rajesh Kumar | ETV Haryana/HP
Updated: July 17, 2017, 1:08 PM IST
जंगल के बीच बसे इस गांव में सभी बुनियादी सुविधाएं मौजूद
पातलियां गांव में सभी बुनियादी मौजूद

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में पांवटा साहिब की पातलियों पंचायत के एक गांव में गुज्जर समुदाय की स्थिति में बहुत बदलाव आया है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश में गुज्जर समुदाय के लोग आर्थिक तौर पर दूसरे राज्यों की तुलना में थोड़े पिछड़े हुए हैं. हालांकि, सिरमौर जिले में पांवटा साहिब की पातलियां पंचायत के एक गांव में गुज्जर समुदाय की स्थिति में बहुत बदलाव आया है. यहां विधायक और पंचायत के प्रधान के प्रयास से लोगों की जिंदगी बेहतर हुई है.

पातलियां पंचायत वैसे तो शहर से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर है लेकिन इसी पंचायत की एक गुज्जर बस्ती ऐसी भी है जो बीच जंगल में बसी है. अपने जीवन का अधिकतर समय जंगलों में गुजारने वाले इस समुदाय को पहले सरकार की और से खास सुविधाएं नहीं मिल पाती थीं, लेकिन समय के साथ-साथ गुज्जर समुदाय के लोगों को भी सरकार द्वारा पंचायत के माध्यम से मूलभूत सुविधाएं मिलने लगी हैं और यहां जीवन स्तर में सुधार दर्ज किया जा रहा है.

पंचायत प्रधान दाता राम का कहना है कि पातलियों पंचायत की गुज्जर बस्ती में आज साफ़ पीने का पानी, सड़क, बिजली आदि लगभग सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं. स्थानीय विधायक व पंचायत के प्रयासों से इस बस्ती को सड़क से जोड़ दिया गया है.

पानी की पाइपलाइन से लेकर हैंडपंप की सुविधा यहां उपलब्ध करवाई गई है. कभी अंधेरे में गुजारा करने वाले इस समुदाय को अब दिन रात बिजली की सुविधा उपलब्ध करवाई जा चुकी है. लगभग हर डेरे के पास शोचालय निर्माण करवाया गया है. अब घुमंतू गुज्जर समुदाय के बच्चो के चेहरों पर इस विकास से मिलने वाली मुस्कान साफ़ झलकती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नाहन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2017, 11:33 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर