हिमाचल उपचुनाव: दयाल प्यारी ने बताया क्यों थी वह ‘भारी’, कहा-2022 में फिर लड़ूंगी

पच्छाद सीट से आजाद प्रत्याशी दयाल प्यारी.
पच्छाद सीट से आजाद प्रत्याशी दयाल प्यारी.

दयाल प्यारी भाजपा (BJP) से बागी होकर मैदान में उतरी और दिखा दिया कि सियासी तौर पर वह कितना दम रखती हैं. हालांकि, पच्छाद सीट पर दयाल प्यारी तीसरे नंबर पर रहीं, लेकिन उन्हें 11698 (21.56 फीसदी) वोट झटके और अपनी ताकत दिखाई.

  • Share this:
पच्छाद (सिरमौर). हिमाचल प्रदेश में विधानसभा (Vidhansabha) की दो सीटों के लिए हुए उपचुनाव की घोषणा और नामांकन दाखिल करने और नामांकन पत्र वापस लेने तक एक नामा खासा चर्चा में रहा और वह नाम था दयाल प्यारी (Dayal Pyari).

दयाल प्यारी भाजपा (BJP) से बागी होकर मैदान में उतरी और दिखा दिया कि सियासी तौर पर वह कितना दम रखती हैं. हालांकि, पच्छाद सीट पर दयाल प्यारी तीसरे नंबर पर रहीं, लेकिन उन्हें 11698 (21.56 फीसदी) वोट झटके और अपनी ताकत दिखाई.

इतने वोट मिले
भाजपा (BJP) की रीना कश्यप को उपचुनाव में 22,048 मत हासिल हुए, जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंदी गंगूराम मुसाफिर को 19,306 वोट हासिल हुए हैं. आजाद और भाजपा से बागी प्रत्याशी दयाल प्यारी ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए 11,651 मत हासिल किए. पच्छाद सीट पर भाजपा ने जीत की हैट्रिक लगा दी है. कांग्रेस का परंपरागत गढ़ पच्छाद सीट पर भाजपा ने जीत का परचम लहराया है. 2012 के बाद से भाजपा इस सीट पर जीत रही है. इससे पहले, 2012 और 2017 में भाजपा सुरेश कश्यप यहां से जीते थे.
पच्छाद चुनाव का परिणाम.
पच्छाद चुनाव का परिणाम.




हार के बाद यह बोली दयाल प्यारी
हार के बाद भाजपा से बागी और आजाद प्रत्याशी दयाल प्यारी ने कहा कि एक तरफ पूरी सरकार खड़ी थी तो दूसरी तरफ वह मैदान में डटी हुई थी. उन्होंने कहा कि वह हार मानने वाले नहीं हैं और अभी से विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारी में जुट जाएगी.

इसलिए दयाल प्यारी भारी
सिरमौर के पच्छाद से दयाल प्यारी तीन बार जिला परिषद के चुनाव जीती हैं. एक बार जिला परिषद की चेयरपर्सन भी रहीं. वह तीनों बार अलग-अलग वार्ड से जीती हैं. पहली बार उन्होंने बाग-पशोग से चुनाव लड़ा और जीता. इसके बाद दूसरी बार वह नारग से विजय हुईं. मौजूदा समय में बाग-पशोग से जिला परिषद की सदस्य हैं. उनकी पक़ड़ का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि जब प्रदेश में कांग्रेस सरकार थी, तब वह जिला परिषद की चेयरपर्सन थी. करीब ढाई दर्जन पंचायतों में उनका प्रभाव है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल उपचुनाव: धर्मशाला से कांग्रेस प्रत्याशी विजय इंद्र कर्ण की जमानत जब्त

हिमाचल उपचुनाव: धर्मशाला से BJP के नैहरिया जीते, तीसरे स्थान पर रही कांग्रेस

हिमाचल उपचुनाव: पच्छाद सीट पर BJP ने लगाई हैट्रिक, रीना कश्यप जीतीं

हिमाचल उपचुनाव: जीत के बाद बोले CM-चुनाव होते हैं तो चुनौतियां रहती हैं

हिमाचल उपचुनाव: धर्मशाला और पच्छाद में बागियों ने BJP को दिखाया ‘आईना’

मंडी इंटरनेशनल एयरपोर्ट को सैंद्धातिक मंजूरी, पूरा खर्च वहन करेगी केंद्र सरकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज