इस सिविल हॉस्पिटल में स्‍टाफ की कमी, नवजातों को नहीं किया जा रहा भर्ती

अस्पताल के चिकित्सकों व नर्सिंग स्टाफ द्वारा कई बच्चों की जिंदगियां यहां बचाई भी गईं. लेकिन अब स्टाफ की कमी के कारण यहां नवजात बच्चों को दाखिल ही नहीं किया जा रहा है.

Rajesh Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 9, 2019, 5:17 PM IST
इस सिविल हॉस्पिटल में स्‍टाफ की कमी, नवजातों को नहीं किया जा रहा भर्ती
सिविल अस्पताल पांवटा साहिब में स्टाफ की कमी के कारण न्यू बोर्न केयर यूनिट और बच्चों के लिए बने सभी वार्ड एक महीने से खाली पड़े हैं.
Rajesh Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 9, 2019, 5:17 PM IST
सिविल अस्पताल पांवटा साहिब में बीमार बच्चों को दाखिल करना बंद कर दिया गया है. स्टाफ की कमी के कारण अस्पताल का स्पेशल न्यू बोर्न केयर यूनिट और बच्चों के लिए बने सभी वार्ड पिछले एक माह से खाली पड़े हैं. अस्पताल प्रबंधन इस बारे में आला अधिकारियों को अवगत करा चुका है. लेकिन अभी तक इसका कोई हल नहीं निकाला जा सका है.

प्रदेश की वर्तमान सरकार स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के बड़े बड़े दावे बेशक करती हो, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां करती है. इसका ताज़ा उदाहरण पांवटा साहिब का सिविल अस्पताल है. इस अस्पताल का निर्माण पूर्व की सरकार ने किया था. लेकिन आज यही अस्पताल सफ़ेद हाथी बनता जा रहा है. खासकर बच्चों के उपचार के लिए लाखों की धनराशी खर्च करके नवजात बच्चों के लिए स्पेशल वार्ड बनवाया गया. अस्पताल के चिकित्सकों व नर्सिंग स्टाफ द्वारा कई बच्चों की जिंदगियां यहां बचाई भी गईं. लेकिन अब स्टाफ की कमी के कारण यहां नवजात बच्चों को दाखिल ही नहीं किया जा रहा है.

बता दें कि बच्चों की देखरेख के लिए यहां 7 नर्सों का स्टाफ था. इनमें से चार नर्सों के तबादले हो चुके हैं और एक नर्स मेडिकल छुट्टी पर है. ऐसे में एक चिकित्सक और दो नर्सों पर इस पूरे यूनिट की जिम्मेवारी है और इसे निभाने में सभी असमर्थ हैं. अब यहां एनीमिया, निमोनिया और कम वजन से पीड़ित बच्चों का इलाज नहीं हो पा रहा है. ऐसे में प्राइवेट अस्पताल में पीड़ित बच्चों के परिजनों को 5 से 7 हजार रुपए प्रतिदिन खर्च करना पड़ रहा है.

पांवटा साहिब के सिविल अस्पताल के एसएमओ डॉ. संजीव सहगल ने कहा कि अस्पताल में स्टाफ की कमी है. इस वजह से ऐसे में अस्पताल को चला पाना संभव नहीं है. उन्होंने कहा कि इस बारे में सीएमओ को अवगत करा दिया गया है. उन्होंने आगे कहा कि स्टाफ के आते ही अस्पताल फिर से शुरू हो जाएगा.

ये भी पढ़ें - यहां धूल फांक रही है डिजिटल एक्स-रे मशीन, निजी क्लिनिकों में लुट रहे मरीज

ये भी पढ़ें - MC शिमला के सांगटी वार्ड का उपचुनाव, घर-घर जाकर मांग रहे वोट

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नाहन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2019, 5:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...