दिव्यांग संजीव को नहीं मिला सरकारी योजनाओं का लाभ, फटेहाली में जीने को मजबूर

नाहन विधानसभा क्षेत्र की नेहली धीडा पंचायत के मलगांव में एक दिव्यांग परिवार है, जो फटेहाली में जीने को मजबूर है.

satish sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 6, 2019, 4:55 PM IST
दिव्यांग संजीव को नहीं मिला सरकारी योजनाओं का लाभ, फटेहाली में जीने को मजबूर
दिव्यांग संजीव अपनी पत्नी के साथ
satish sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 6, 2019, 4:55 PM IST
हिमाचल प्रदेश के नाहन विधानसभा क्षेत्र की नेहली धीडा पंचायत के मलगांव में एक दिव्यांग परिवार है, जो फटेहाली में जीने को मजबूर है. दिव्यांग संजीव कुमार के परिवार को सरकार की योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाया है. इस परिवार के पास रहने को ना ही सुरक्षित मकान है और ना ही खाने-पीने के लिए पर्याप्त मात्रा में भोजन. संजीव कुमार का कहना है कि दिव्यांग होने के कारण वह कामकाज करने में असमर्थ हैं. बचपन से ही संजीव के दोनों हाथों और एक पैर की उंगलियां नहीं है. ऐसे में परिवार का पालन पोषण करना मुश्किल है. इनका कहना है कि राज्य और केंद्र सरकार कई योजनाएं चला रही हैं, मगर उसके परिवार को किसी भी योजना का लाभ नहीं मिल रहा है. परिवार के पास रहने के लिए पुश्तैनी मकान है, जो मकान कभी भी ढह सकता है. पंचायत के पास कई बार मकान के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पैसा देने की गुहार लगाई गई मगर पंचायत ने हमेशा गरीब परिवार की बात को अनसुना किया.

शौचालय तक की नहीं है सुविधा

संजीव कुमार की मां का कहना है कि वह कई सालों से पंचायत घर के चक्कर काट रही है. उनका कहना है कि मकान की सुविधा देना तो दूर पंचायत उनके लिए शौचालय तक नहीं बना पाई है जो हर घर में बनाना अनिवार्य किया गया है. बूढ़ी मां को इस बात की चिंता सता रही है कि कभी भी सदियों पुराना उनका आशियाना ढह सकता है.

मुश्किल से चल रहा है परिवार का गुजारा

परिवार का पालन पोषण कर रही दिव्यांग संजीव कुमार की पत्नी सुमोती देवी का कहना है कि वह कुछ फसलें उगाकर परिवार का पालन पोषण कर रही है. वो कहती है कि उसे अकेले दिन रात काम करना पड़ता है, तब जाकर मुश्किल से परिवार चल रहा है. वह चाहती हैं कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के तहत परिवार को मकान और शौचालय की सुविधा मिले.

संजीव कुमार को सरकार से मदद के नाम पर सिर्फ विकलांगता पेंशन मिल रहा है. हैरानी इस बात की होती है कि जब ऐसे गरीब लोगों के उत्थान के लिए सरकार कई योजनाएं चला रही है तो क्यों इसका लाभ पात्रों को नहीं मिल पा रहा है.

यह भी पढ़ें: सुंदरनगर को नीदरलैंड बनाने की मुहिम फेल, शहर में चारों ओर फैला कचरा
BJP के सतपाल सत्ती ने दिया विवादित बयान, चुड़ैल से कर डाली कांग्रेस की तुलना
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...