यहां वन माफियाओं को बचाने में लगी है पुलिस, गरीब लोग निशाने पर

पांवटा साहिब के जंगलों में वन माफिया बहुत सक्रिय
पांवटा साहिब के जंगलों में वन माफिया बहुत सक्रिय

हिमाचल प्रदेश में पांवटा साहिब में वन माफिया बहुत सक्रिय है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश में पांवटा साहिब में वन माफिया बहुत सक्रिय है. गरीब लोगों को पैसों का लालच देकर हरे पेड़ों पर कुल्हाड़ी चलवाई जा रही है. अवैध कटान के मामलो में पुलिस माफियाओं को संरक्षण देकर गरीब लोगो को वन माफिया साबित करने में लगी है.

उपमंडल पांवटा साहिब में वन माफियाओं के हौंसले इतने बुलंद है कि वह अवैध वन कटान को लंबे समय से अंजाम दे रहे हैं. बीते बुधवार की देर रात को पांवटा साहिब के छछैती जंगल में करीब 6 साल पुराने पेड़ों पर कुल्हाड़ी चली.

रातोंरात वन माफिया लकड़ी को ठिकाने लगाने में लगे गए थे जिसकी सूचना किसी ने वन विभाग को दी. टीम ने मौके से अवैध कटान की लकड़ी बरामद की और दो लोगो को पकड़ लिया जबकि अन्य मौके से भाग खड़े हुए.



आगामी कार्रवाई के लिए वन विभाग ने पूरा मामला पुलिस के सुपुर्द कर दिया, जब पुलिस कार्रवाई शुरू हुई तो इस मामले में संलिप्त एक वन माफिया का नाम कागजी कार्रवाई में नहीं जोड़ा गया. अब पुलिस इस अवैध कटान मामले में दो गरीब परिवारों के तीन लोगों को सरगना बनाने में लगी हुई है जबकि इनमें से 2 लड़के नाबालिग बताए जा रहे हैं.
पुलिस के डर से दोनों नाबालिग लड़के 4 दिनों से घर से गायब हैं जबकि आरोपी जसवंत को रोज़ पुलिस चौकी बुलाया जाता है. हैरत की बात यह है कि जसवंत को कागजो में अभी तक फरार बताया जा रहा है.
जसवंत सहित दोनों आरोपी गरीब परिवार से हैं, जिन्हें वन माफिया ने पैसों का लालच देकर पेड़ों पर कुल्हाड़ी चलवाई.

जसवंत के घर में चूल्हा तभी जलता है जब मजदूरी मिलती है. जसवंत की पत्नी गर्भवती है, ऐसे में उन्हें पैसों की सख्त आवश्यकता थी इसलिए उसने एक वन माफिया के कहने पर पेड़ काटे. पांचों वन माफिया इस अवैध कटान में शामिल थे लेकिन पुलिस कागजी कार्रवाई में उनपर हल्का केस और तीनों गरीबो के सिर पर इस अवैध कटान का सारा बोझ डालने की कोशिश की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज