हिमाचल में बनी खांसी की दवा से 12 बच्चों की मौत, कंपनी पर गैर-इरादतन हत्या की FIR

दवा कोल्ड बेस्ट पीसी बनाने वाली कंपनी नाहन के काला अंब में स्थित है.
दवा कोल्ड बेस्ट पीसी बनाने वाली कंपनी नाहन के काला अंब में स्थित है.

Deadly Cough Syrup Cold Best PC: शिकायत सामने आने के बाद 17 फरवरी को इस फैक्ट्री को सील कर दिया गया था. कुछ रिकॉर्ड भी जब्त कर दिया गया था.

  • Share this:
नाहन/शिमला. हिमाचल प्रदेश की सिरमौर (Sirmour) जिले में औद्योगिक क्षेत्र कालाअम्ब में दवा निर्माता कंपनी (Medicine Company) ‘डिसीटल विजन’ की खांसी की दवा से बच्चों की मौत के बाद अब इस दवा के सैंपल फेल गए गए हैं. इस विवादित कोल्ड बेस्ट पीसी (Cold Best-PC) दवा के सैंपल फेल होने के बाद हड़कंप मच गया है. जबकि 12 बच्‍चों की मौत के बाद सरकार ने दवा कंपनी के लाइसेंस को निलंबित कर दिया.

बताया जा रहा है कि  जम्मू (Jammu) के ऊधमपर इलाके में दवा खाने से 10 बच्चों की मौत हुई है. इस संबंध में जम्मू प्रशासन की ओर से हिमाचल सरकार को ईमेल के जरिये जानकारी दी गई है. वहीं, कंपनी के खिलाफ अब काला अम्ब पुलिस थाना में कॉस्मेटिक एक्ट की धारा 18 ए वन, 17 ए, 27 ए और आईपीसी की धारा 308 के तहत गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया.

दवा में मिला खतरनाक कैमिकल
कोल्ड बेस्ट पीसी दवा की सैंपल रिपोर्ट आने के बाद कंपनी का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है. दरअसल, इस दवा में डीथलेन ग्लाकोल कैमिकल की मात्रा 34 फिसदी से अधिक पाई गई है. जो कि सेहत के लिए काफी खतरनाक है. गौर हो कि मंगलवार को सदन में इस मामले पर जवाब देते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी इसे दुखद बताया है.
ये बोले अधिकारी


हिमाचल स्टेट ड्रग कंट्रोलर नवनीत मारवाह का कहना है कि विवादित दवा के हिमाचल सहित जम्मू-कश्मीर व हरियाणा में भी सैंपल लिए गए थे. फिलहाल, जम्मू-कश्मीर और हरियाणा में लिए गए सैंपल की रिपोर्ट सामने आई है, जिसके आधार पर कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की गई है. जल्द ही हिमाचल में लिए गए सैंपल की रिपोर्ट भी सामने आ जाएगी.

 

फैक्ट्री का रिकॉर्ड जब्त
शिकायत सामने आने के बाद 17 फरवरी को इस फैक्ट्री को सील कर दिया गया था. कुछ रिकॉर्ड भी जब्त कर दिया गया था. हालांकि, उसके बाद भी शिकायतें आ रही थी कि चोरी-छिपे कंपनी में अब भी दवाएं बनाई जा रही है. क्योंकि कंपनी में कई कामगारों का आना-जाना लगातार जारी था और उसकी तस्वीरें कैमरे में भी कैद हुई थी. विभाग के अधिकारियों दावा है कि कंपनी में उत्पादन पूरी तरह से बंद था.

सदन में यह बोले सीएम
हिमाचल विधानसभा के बजट सत्र के दौरान सीएम जयराम ठाकुर ने बताया कि बताया कि मामले में सैंपल लिए गए हैं. साथ ही कंपनी पर एफआईआर की गई है. इसके अलावा, कंपनी को भी सीज किया गया है. वहीं, कंपनी का लाइसेंस भी अगले आदेश तक सस्पेंड कर दिया गया है. दवाई की गुणवता पर नजर रखने वाले अधिकारियों को लेकर सीएम ने साफ किया कि जो भी दोषी पाया जाएगा, उसे खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. वहीं, दूसरी ओर, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि यह मामला गंभीर है. दवाई से दूसरे राज्य में बच्चों की मौत हुई है, जिससे प्रदेश की साख पर बट्टा लगा है. सरकार को इस पर चैक रखना चाहिए. प्रदेश में निर्धारित मानकों पर दवाइयों के निर्माण पर सरकार को चैक रखना चाहिए.

ये भी पढ़ें: अमित शाह से मुलाकात के बाद CM जयराम बोले-कैबिनेट का जल्द होगा विस्तार

मंडी: फौजी पति ने बेरहमी से पत्नी को पीटा, अस्पताल में भर्ती, FIR

ऊना में रजिस्ट्री की नकल लेने आए युवक ने तहसीलदार पर बोला धावा, हाथापाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज