Home /News /himachal-pradesh /

यहां बदस्तूर जारी है मौत का सफर, लेकिन फिर भी मौन बैठा है प्रशासन

यहां बदस्तूर जारी है मौत का सफर, लेकिन फिर भी मौन बैठा है प्रशासन

ओवरलोड सरकारी बस पर बैठे स्कूली छात्र

ओवरलोड सरकारी बस पर बैठे स्कूली छात्र

यातायात के नियमों को तोड़ने में सरकारी बसें भी पीछे नहीं रहती. सरकारी बसों में स्कूली छात्र भी सफर करते हैं, फिर भी चालक, परिचालक बसों को ओवरलोड यात्री भर लेते हैं. हादसों से बेखौफ वाहन चालक वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात भी करते रहते हैं, लेकिन इन सब पर लगाम लगाने वाला कोई नहीं है.

अधिक पढ़ें ...
    सिरमौर जिले के कई इलाकों में बदस्तूर मौत का सफर जारी है. जिले के कई क्षेत्रों में ओवरलोड वाहन धड़ल्ले से चल रहे है, लेकिन प्रशासन द्वारा कार्रवाई नहीं की जा रही है. सिरमौर के विभिन्न क्षेत्रों में लोग बसों व गाड़ियों की छतों पर जान जोखिम में डाल कर सफर कर रहे हैं.

    बदहाल सड़कों पर धड़ल्ले से ओवरलोड वाहन चल रहे हैं, लेकिन मौन बैठे प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं होने से इनके हौसले बढ़ रहे हैं. यही कारण है कि आये दिन हादसों में लोगों की जान पर बन आती है. मामले में जिला उपायुक्त ललित जैन का कहना है कि पुलिस और परिवहन विभाग को ओवरलोड वाहनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के अधिकार दिए हुए हैं.

    यह भी पढ़ें-  धूल के आगोश में हिमाचल, ढाई गुना बढ़ा शिमला में प्रदूषण

    यातायात के नियमों को तोड़ने में सरकारी बसें भी पीछे नहीं रहती. सरकारी बसों में स्कूली छात्र भी सफर करते हैं, फिर भी चालक, परिचालक बसों को ओवरलोड यात्री भर लेते हैं. हादसों से बेखौफ वाहन चालक वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात भी करते रहते हैं, लेकिन इन सब पर लगाम लगाने वाला कोई नहीं है.

    यह भी पढ़ें-  जहां नहीं पहुंचेगी एंबुलेंस, वहां मिलेगी फ्री हेली एंबुलेंस सेवा, स्विस संस्था के साथ MOU

    इन लापरवाहियों के कारण ही गिरिपार क्षेत्र में सालाना सैंकड़ों लोग अनपी जान गवां देते हैं और प्रशासन हादसा होने के बाद हरकत में आता है. क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी सुनील शर्मा का कहना है कि लोगों को हादसों से बचाने के लिए समय समय पर ओवरलोड वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की जाती है. कई बार इन वाहनों के परमिट भी रद्द किए जा चुके हैं.

    यह भी पढ़ें-  मंडी एयरपोर्ट मामला : विस्थापन से सहमे ग्रामीण बोले-किसी दूसरी जगह बनाओ हवाई अड्डा

    कई बार यह कहा जाता है कि बसों की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण लोगों को बसों की छतों पर जान जोखिम में डालकर सफर करना पड़ता है, लेकिन सवाल इस बात पर उठता है कि आखिर क्यों यहां शासन प्रशासन द्वारा बसों की वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की जाती. आखिर कब तक लोगों की जान से खिलवाड़ होता रहेगा और सड़क हादसों भी भेंट लोगों की जिंदगिया चढ़ती रहेगी.

    यह भी पढ़ें-  सीएम के गृहक्षेत्र को बड़ी सौगात, जंजैहली में खुलेगा HRTC का सब डिपो

    Tags: Himachal pradesh news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर