शिलाई के दलित परिवार को न्याय के लिए खानी पड़ रही है दर-दर की ठोकरें
Nahan News in Hindi

शिलाई के दलित परिवार को न्याय के लिए खानी पड़ रही है दर-दर की ठोकरें
पीड़ित दलित युवक

नाहन विधानसभा क्षेत्र शिलाई के जीमटवाड गांव के एक दलित युवक की शिकायत लिखने की बजाय पांवटा के डीएसपी ने उलटे पांव पर वापिस घर दौड़ने को मजबूर कर दिया.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
हिमाचल प्रदेश के नाहन के विधानसभा क्षेत्र शिलाई के जीमटवाड गांव के एक दलित परिवार से ताल्लुक रखने वाले एक युवक को डीएसपी कार्यालय पांवटा पहुंचने पर न्याय मिलने की बात तो दूर उसे डीएसपी साहब की दबंगई से घबरा कर बिना न्याय के ही उलटे पांव वापिस अपने घर दौड़ने को मजबूर होना पड़ा.

यह मामला विधानसभ क्षेत्र शिलाई के जीमटवाड गांव के एक दलित परिवार से जुड़ा हुआ है. सम्बंधित क्षेत्र डीएसपी पांवटा के कार्यक्षेत्र के अंतर्गत आता है और पीड़ित युवक को बहुत लंबी दूर तय करके न्याय मांगने के लिए डीएसपी कार्यालय पांवटा साहिब पहुंचना पड़ा.

जीमटवाड गांव के प्रदीप का परिवार दबंगों की दबंगई से घुट-घुटकर जीने को मजबूर है. आरोप है कि सवर्ण जाति से ताल्लुक रखने वाले गांव के दबंगों ने इस पीड़ित परिवार का रास्ता, पानी सब कुछ बंद करके रख दिया है. गांव के कुछ पुरुषों और महिलाओ ने इसकी पत्नी के साथ कहासुनी के बाद मारपीट की थी जिसका विरोध जाहिर करने के बाद से दबंगों ने इसके घर तक का रास्ता बंद कर दिया था.



दलित होने का हवाला देते हुए दबंगोे ने इस परिवार को पीने का पानी तक नहीं भरने दिया. रोजगार के लिए इस परिवार के पास जो पालतू जानवर है, उनके चारा खाने की जगह पर गहरे गड्ढे खोद दिए गए ताकि यह परिवार रोजगार भी न चला सकें.



पिछले एक माह से शिलाई के जीमटवाड में एक दलित परिवार कांता और प्रदीप कुमार अभी तक सवर्ण लोगों के शोषण के साये में जीने को मजबूर हैं. शिलाई पुलिस ने शिकायत के बाद भी मामला दर्ज नहीं किया, जिसके बाद पीड़ित ने जिला मुख्यालय में जाकर इन्साफ मांगा तो उसे डीएसपी कार्यालय जाने का सुझाव दिया. लेकिन, वह जब न्याय की गुहार लगानेे डीएसपी पांवटा साहिब के कार्यालय पहुंचा तो पुलिस अधिकारी द्वारा पीड़ित पर दबाव बना कर समझौता करने के लिए पत्र लिखवाने का प्रयास किया गया.

इस पूरे मामले को लेकर न्यूज18 हिमाचल के संवाददाता ने डीएसपी प्रमोद चौहान से भी बात करनी चाही ,लेकिन उन्होंने कैमरे के सामने कुछ भी कहने से साफ़ मना कर दिया. डीएसपी का कहना था​ कि ये मामला झूठा है और इस तरह के मामलों को मीडिया को भी उजागर नहीं करना चाहिए.
First published: December 30, 2017, 12:53 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading