• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • Sirmour Accident: सिसक उठी घाटी, एक साथ जलीं नौ चिताएं, पिता ने बेटों की अर्थी को दिया कंधा

Sirmour Accident: सिसक उठी घाटी, एक साथ जलीं नौ चिताएं, पिता ने बेटों की अर्थी को दिया कंधा

हादसे में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है

हादसे में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है

Himachal News: हिमाचल के सिरमौर (Himachal Sirmour Road Accident) में हुए हादसे में जान गंवाने लोगों का मंगलवार को अंतिम संस्कार किया गया. एक साथ 9 चिताएं जली तो पूरे गांव में मातम पसर गया.

  • Share this:
नाहन. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के सिरमौर (Sirmour Bus Accident) जिले के टिम्बी खड्ड के किनारे से मंगलवार सुबह एक दिल दहला देने वाली तस्वीर सामने आई. एक साथ 9 चिताओं को देख मानो पहाड़ भी सिसक रहे थे. मानवीय भूल के कारण हर साल सैंकड़ों लोग अपना अनमोल जीवन खो देते हैं. लेकिन ऐसा मंजर शायद पहली बार ही सामने आया हो, जब 11 मृतकों में से 9 की उम्र 12 से 26 साल के बीच हो. टिम्बी खड्ड के किनारे ऐसा मातम पसरा हुआ था, मानो कुदरत को भी अपने फैसले पर पछतावा हो रहा हो. शायद ही कोई आंख ऐसी थी, जो नम न हो. कुदरत की विडंबना देखिए कि चडेउ गांव में दुल्हन के घर आने का इंतजार हो रहा था, वहीं शवों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया. कुदरत का ये भी फैसला देखिए कि एक अधेड़ उम्र के पिता को अपने दो बेटों की अर्थियों का कंधा देकर दाह संस्कार करना पड़ा.



हादसे का दर्द दिल्ली तक भी पहुंचा. प्रधानमंत्री सहित राष्ट्रपति ने भी शोकाकुल परिवारों को सांत्वना प्रकट कर दुख की घड़ी में साथ होने की बात की. उल्लेखनीय है कि शवों का मौके पर ही पोस्टमार्टम कर दिया गया. मंगलवार को ही पीजीआई में 21 साल के अक्षय भी जिंदगी की जंग हार गया. बताया जा रहा है कि अक्षय अपने परिवार का इकलौता चिराग था.

11 लोगों ने तोड़ा दम

हादसा इतना भयानक था कि गाड़ी में सवार 12 में से 11 लोगों ने दम तोड़ दिया. अब केवल एकमात्र 57 वर्षीय कमनाराम ही पीजीआई में जिंदगी और मौत के बीच लड़ाई लड़ रहे हैे. दिल पसीज देने वाले सामूहिक अंतिम संस्कार के बाद से इलाके के सैंकड़ों घरों में चूल्हा नहीं जला.  एक पिता ने अपना बेटा खोया तो किसी ने अपना भतीजा या भांजा. टिम्बी खड्ड के किनारे ही 21 साल के अक्षय का भी अंतिम संस्कार होना है, जिसने पीजीआई में दम तोड़ दिया. केवल एक ही शव का अंतिम संस्कार कांडो भटनोल में किया गया. बातचीत में पांवटा साहिब के डीएसपी वीर बहादुर ने कहा कि एक ही जगह 9 अल्पायु में मोक्ष को प्राप्त हुए युवाओं का अंतिम संस्कार हुआ. डीएसपी ने बताया कि एक घायल ने आज सुबह दम तोड़ दिया.

ये भी पढ़ें: गाजियाबाद ट्रिपल मर्डर केस: भजीता निकला कातिल, पुलिस ने किया चौंकाने वाला खुलासा 

पिता ने खोए 17 और 19 साल के बेटे

हादसे में बलिया राम ने अपने दो जवान बेटों को खो दिया. आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं कि एक साथ दो जवान बेटों को खोने वाले पिता के दिल पर क्या बीत रही होगी.  हादसे में 19 वर्षीय सुरेश और 17 वर्षीय प्रवेश ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया था. हादसे में मरने वाले तमाम लोग आपस में रिश्तेदार भी थे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज