Assembly Banner 2021

किन्नौर के रिब्बा गांव में आया एवलांच, घड़ी भर में छा गया बर्फ का गुबार

रिब्बा गाँव में अचानक पहाड़ों से सफेद धूल उड़ती दिखाई दी और देखते ही देखते यह सफेद बर्फ की धूल ने एवलांच का रूप धारण कर लिया.

रिब्बा गाँव में अचानक पहाड़ों से सफेद धूल उड़ती दिखाई दी और देखते ही देखते यह सफेद बर्फ की धूल ने एवलांच का रूप धारण कर लिया.

किन्नौर के मुरंग तहसील के तहत रिब्बा गाँव में शनिवार दोपहर अचानक पहाड़ोंसे सफेद धूल (White Dust) उड़ती दिखाई दी देखते ही देखते यह सफेद बर्फ (Snow) की धूल ने एवलांच (Avalanche) का रूप धारण कर लिया और गांव की तरफ आने लगा.

  • Share this:
रिकांग पिओ. जनजातीय जिला किन्नौर के मुरंग तहसील के तहत रिब्बा गाँव में शनिवार दोपहर अचानक पहाड़ोंसे सफेद धूल (White Dust) उड़ती दिखाई दी देखते ही देखते यह सफेद बर्फ (Snow) की धूल ने एवलांच (Avalanche)  का रूप धारण कर लिया और गांव की तरफ आने लगा. इसे स्थानीय लोगों ने अपने मोबाइल के कैमरों में कैद कर लिया. बता दें कि रिब्बा के पहाड़ियों से उड़ता एवलांच चन्द सैकंड में गांव की तरफ उतरा और आसपास के कुछ क्षेत्र में करीब आधे घण्टे के लिए इस सफेद धूल के आगोश में आ गया था. इस धूल के आसपास पेड़-पौधे और सेब के बगीचे थे, उसको अपने साथ लेकर आया, जिसमें कुछ स्थानीय लोगों के बगीचों को नुकसान भी हुआ है. वहीं रिब्बा के पहाड़ी से आया इस एवलांच का धूल ग्रामीण क्षेत्र तक भी पहुंच गया और गांव के तापमान को भी बहुत ठंडा कर दिया.

पिछले साल भी इस गांव में हो चुकी है ऐसी घटना

गौरतलब है कि रिब्बा गांव में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि पहाड़ी से एवलांच गिरा है. पिछले वर्ष भी इसी जगह से ठीक इसी तरह से एवलांच उठा था और गांव की तरफ बढ़ा था. पिछले वर्ष भी रिब्बा गांव के सेब के बगीचों के साथ कई लोगों के पशुशाला व मकानों को लाखों का नुकसान हुआ था. वही इस बार रिब्बा के इस पहाड़ी से यह पहला एवलांच है, जिसमें लोगों को अभी कम ही नुकसान हुआ है, लेकिन अभी भी इस स्थान पर अधिक बर्फभारी के चलते एवलांच का बड़ा खतरा बना हुआ है.



(रिकांग पिओ से प्रेम लाल की रिपोर्ट)
यह भी पढ़ें: कुल्लू के सैंज घाटी में बर्फ के चलते फिसलकर आंगनबाड़ी महिला कार्यकर्ता की मौत

सास-ससुर ने विधवा बहू का किया कन्यादान, बेटे की मौत के देड़ साल बाद हुई शादी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज