लाइव टीवी

किन्नौर के रिब्बा कंडे में आए एवलांच से सेब के बागीचों को भारी नुकसान

News18 Madhya Pradesh
Updated: January 20, 2020, 5:54 PM IST
किन्नौर के रिब्बा कंडे में आए एवलांच से सेब के बागीचों को भारी नुकसान
किन्नौर में एवलांच आने के बाद टूटे सेब के पेड़.

Avalanche in Kinnaur: रिब्बा के प्रधान प्रेम नेगी ने बताया की सर्दियों में ग्लेशियर और बर्फीले तूफान से स्थानीय लोगों के सेब के बगीचे, घासनी और अन्य कीमती चीजों को नुकसान होता है.

  • Share this:
रिकॉन्गपिओ. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के जनजातीय जिला किन्नौर (Kinnaur) के रिब्बा कंडे में शनिवार को आए एवलांच (Avalanche) से भारी नुकसान हुआ है. सोमवार को राजस्व विभाग के टीम ने नुकसान का जायज़ा लिया.

इतना नुकसान हुआ
जानकारी के अनुसार, नायब तहसीलदार मुरँग राजेश ने बताया कि ग्लेशियर और बर्फीले तूफान से रिब्बा कंडे में 15 गौशाला, 15 घासनी, 5 मकान, क़रीब 2507 सेब के पेड़, सिंचाई योजना को नुकसान हुआ है. इसमें रिब्बा कंडे में कुल 60 लाख का नुकसान आंकलन लगाया गया है. उन्होंने कहा कि सभी प्रभावितों को सरकारी राहत मैनुअल के आधार पर राहत दी जाएगी.

बीते साल भी आया था तूफान

गौर रहे कि रिब्बा कंडे में पिछले वर्ष भी ग्लेशियर और बर्फीले तूफान से लोगों को करोड़ो का नुकसान हुआ था. अधिक बर्फभारी के दौरान रिब्बा कंडे की पहाड़ियों पर सफेद धूल उड़ती रहती है और हर वर्ष इस स्थान पर कुछ न कुछ नुकसान होता रहता है.

किन्नौर में नुकसान का जायजा लेने पहुंची.
किन्नौर में नुकसान का जायजा लेने पहुंची.


यह बोले प्रधानरिब्बा के प्रधान प्रेम नेगी ने बताया की सर्दियों में ग्लेशियर और बर्फीले तूफान से स्थानीय लोगों के सेब के बगीचे, घासनी और अन्य कीमती चीजों को नुकसान होता है. गर्मियों में बारिश के दौरान ठीक इसी नाले के आसपास बाढ़ आने से लोगो को उनके आशियाने, बगीचे और सार्वजनिक भवनों को भी भारी नुकसान होता रहता है. उन्होंने कहा कि पिछले कई साल से पीडब्ल्यूडी विभाग और वन विभाग को रिब्बा कंडे व रालंग खंड में सर्दियों में ग्लेशियर और गर्मियों में बाढ़ आता है. इस स्थान पर चेक डैम व सुरक्षा की मांग करते रहे हैं, लेकिन अब तक कोई काम नहीं हुआ है. इस कारण हर वर्ष रिब्बा के ग्रामीणों को ग्लेशियर और बाढ़ से लाखों का नुकसान होता है.

(अरुण नेगी की रिपोर्ट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रिकांग पिओ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 5:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर