Kinnaur: राज्यपाल दत्तात्रेय ने डाली नाटी, देश के फर्स्ट वोटर श्याम शरण नेगी से भी की मुलाकात

हिमाचल के राज्यपाल दत्तात्रेय श्याम शरण नेगी के साथ.

हिमाचल के राज्यपाल दत्तात्रेय श्याम शरण नेगी के साथ.

Shayam Sharan Negi: जिला किन्नौर के कल्पा में जन्मे मास्टर श्याम शरण नेगी ने 1 जुलाई 1917 को पहली बार अपने मत का प्रयोग किया था. वह 103 साल के हो चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 20, 2021, 8:19 AM IST
  • Share this:
अरुण नेगी

रिकॉन्गपिओ. हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल (Governor) बंडारू दत्तात्रेय ने अपने किन्नौर प्रवास के दौरान कल्पा के परिधि गृह में स्वतंत्र भारत के प्रथम मतदाता 103 वर्षीय श्याम सरण नेगी से मुलाकात की. राज्यपाल ने नेगी द्वारा मतदाताओं को समय-समय पर जागरूक करने व मजबूत लोकतंत्र के सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया.

उन्होंने नेगी को सम्मानित किया तथा कहा कि आयु के इस पढ़ाव में भी नेगी एक जागरूक नागरिक के तौर पर सक्रिय रहते हैं, जो अन्यों के लिए प्रेरणा है. नेगी ने इस मौके पर राज्यपाल का किन्नौर आने पर स्वागत किया तथा उनसे चर्चा के दौरान कहा कि वह प्रधानमंत्री के ‘फैन’ हैं और उनके

नेतृत्व में केंद्र सरकार अच्छा कार्य कर रही है.
लोगों से किया संवाद

इसके बाद, राज्यपाल ने कल्पा के प्राचीन मंदिर में पूजा-अर्चना की तथा सेब बागीचों का भ्रमण भी किया. उन्होंने स्थानीय लोगों से संवाद किया तथा उनकी समस्याओं को सुना. वहीं, एक कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल नाटी (Folk Dance) डालते हुए भी नजर आए.

कैसे बने देश के पहले मतदाता



1 जुलाई 1917 को जिला किन्नौर के कल्पा में जन्मे मास्टर श्याम शरण नेगी ने जब पहली बार अपने मत का प्रयोग किया था, उस समय वह बतौर अध्यापक सेवाएं दे रहे थे. उनकी ड्यूटी भी चुनाव में लगी थी. भारत के स्वतंत्र होने के बाद पहला आम चुनाव फरवरी-मार्च 1952 में होने जा रहा था, लेकिन किन्नौर में हिमपात की संभावना को देखते हुए छह माह पहले ही मतदान करवा दिया था. मतदान के दिन मास्टर श्याम शरण नेगी सुबह ही कल्पा बूथ पर पहुंच गए और वहां पर वोट डाला. साल 1951 में वोट डाले गए थे. ऐसे में बाद में श्याम शरण नेगी देश के पहले वोटर कहलाए गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज