• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • Kinnaur Landslide: चंडीगढ़ की जियोलॉजिक्ल सर्वे की टीम करेगी पहाड़ टूटने के कारणों की जांच

Kinnaur Landslide: चंडीगढ़ की जियोलॉजिक्ल सर्वे की टीम करेगी पहाड़ टूटने के कारणों की जांच

किन्नौर के बटसेरी में हुई लैंडस्लाइड से पुल टूट गया है. तस्वीर रविवार की है.

किन्नौर के बटसेरी में हुई लैंडस्लाइड से पुल टूट गया है. तस्वीर रविवार की है.

Kinnaur Landsides: हिमाचल के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने बताया कि घटना वाली जगह पर प्रशासन की टीमें सेना के साथ बचाव कार्य में लगी हुई हैं. अभी भी उस क्षेत्र में 100 से 120 लोग फंसे हुए हैं, जिन्हें सेना की सहायता से रेस्क्यू किया जा रहा है.

  • Share this:
    अरुण नेगी

    रिकॉंन्गपिओ (किन्नौर). हिमाचल प्रदेश (Himachal) के किन्नौर जिले में छितकुल-सांगला मार्ग पर बटसेरी में हुए लैंडस्लाइड (Landslides in Kinnaur) में नौ जिंदगियां छीन गई. अब हादसे के बाद किन्नौर प्रशासन जागा है. और देश के अंतिम गांव छितकुल को जोड़ने वाले इस लिंक रोड पर आवाजाही बंद कर दी है. वहीं, चंडीगढ़ से जियोलॉजिक्ल सर्वे आफ इंडिया की टीम पहाड़ों की जांच करने आएगी और बटसेरी के पहाड़ के टूटने का पता लगाएगा. डीसी किन्नौर (DC Kinnaur) आबिद हुसैन सादिक ने न्यूज-18 हिमाचल से बातचीत में कहा कि बरसात का मौसम में कोई भी पर्यटक ऐसे स्थानों पर न जाए, जहां पहाडी खिसकने का खतरा है.

    क्या बोले डीसी किन्नौर
    डीसी किन्नौर आबिद हुसैन ने कहा कि जब तक जियॉजिकल विभाग से रिपोर्ट नहीं आती है, तब तक सडक मार्ग बंद कर दिया गया है. अब भी रछम और छितकुल में विभिन्न राज्यों के पर्यटक फंसे हुए हैं. उन्हें निकालने के लिए प्रशासन काम कर रहा है. किन्नौर जिले के पर्यवारण प्रेमी शांता कुमार नेगी ने कहा कि किन्नौर जिले की पहाडियां हवा के रूख के साथ भी टूटती हैं और पत्थर गिरते हैं. प्राकृतिक आपदा को रोक पाना आम आदमी के हाथ में नहीं है, लेकिन इन हादसों को रोकने के लिए काम किया जा सकता है. कही न कही इन हादसों को आदमी ने ही न्यौता दिया है. किन्नौर में काफी ज्यादा हाईड्रो प्रोजेक्ट और ब्लास्टिंग पहाड़ टूटने का कारण है.

    तीन दिन से लगातार भूस्खलन

    किन्नौर में अब काजा को जोड़ने वाला राष्ट्रीय उच्च मार्ग-5 मलिंग नाला के पहाड़ी से चट्टानों के गिरने के बाद बंद हो गया है. दोनों तरफ लगी वाहनों की लम्बी कतारे वाहनों की लग गई ङै. मलिंग नाला में पहाड़ी से चट्टानों के गिरने से कोई जानी नुकसान नहीं ह, लेकिन किन्नौर के ऊपरी क्षेत्र सहित स्पीति वैली का सम्पर्क देश-दुनिया के कट गया है. राष्ट्रीय उच्च मार्ग अवरूद्ध होने से काजा की और जाने के लिए बहुत से पर्यटक नाको और मालिंग में फंसे हुए हैं. अवरूद्ध मार्ग पर लोगों के सुरक्षा के लिए पुलिस जवान तैनात कर दिए गए हैं. दरअसल, छितकुल मार्ग पर शनिवार को भी लैंडस्लाइडिंग हुई थी. एक गाड़ी चपेट में आई थी और चालक बाल बाल बच गया था. इसके बाद रविवार को जो कुछ हुआ वह पूरी दुनिया ने देखा. नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि, तीन लोग घायल हैं.

    चल रहा है रेस्क्यू ऑपरेशन
    हिमाचल के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने बताया कि घटना वाली जगह पर प्रशासन की टीमें सेना के साथ बचाव कार्य में लगी हुई हैं. अभी भी उस क्षेत्र में 100 से 120 लोग फंसे हुए हैं, जिन्हें सेना की सहायता से रेस्क्यू किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार ने पहले ही सभी डीसी को अलर्ट पर रखा है और भूस्खलन वाली जगहों और नदी, नालों के आसपास न जाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि इसके अलावा पर्यटकों से भी आग्रह किया गया है कि बरसात वाले मौसम में खतरनाक वाली जगहों पर न जाएं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज