लाइव टीवी

किन्नौर : यहां एक ही कमरे में पढ़ रहे मिडिल व प्राइमरी स्कूल के बच्चे

News18 Himachal Pradesh
Updated: December 2, 2019, 3:01 PM IST
किन्नौर : यहां एक ही कमरे में पढ़ रहे मिडिल व प्राइमरी स्कूल के बच्चे
ग्रामीणों ने सरकार व प्रशासन से जल्द स्कूल भवन का काम पूरा करने की उठाई मांग

स्कूल भवन नहीं होने से स्कूली बच्चों को मात्र एक कमरे (School in one room)में या फिर खुले आसमान के नीचे शिक्षा दी जाती है. यहां पर मिडिल व प्राइमरी कक्षाएं एक साथ एक कमरे में चलाई जाती हैं.

  • Share this:
किन्नौर. चीन तिब्बत सीमा (China Tibet border) से सटा गांव चारंग जनजातीय जिला किन्नौर (Kinnaur) का अंतिम गांव है जहां शिक्षा (Eduacation) की ज्योति बुझने की कगार पर पहुंच गई है. चारंग गांव के नौनिहालों को भीषण गर्मी हो या फिर बर्फबारी एक कमरे (Middle and Primary School in one room) में शिक्षा ग्रहण करने पर मजबूर होना पड़ रहा है. चारंग में नए स्कूल भवन के निर्माण के लिए शिक्षा विभाग ने लोक निर्माण विभाग को वर्ष 2016 में करीब 18 लाख रुपये दिए थे. यहां ठेकेदार ने काम शुरू किया मगर गड्ढे खोदने के बाद फिर काम रोक दिया. इस वजह से आज गांव के नौनिहाल खुले आसमान तले शिक्षा ग्रहण करने को मजबूर हैं. वहीं शिक्षा और लोकनिर्माण विभाग (PWD) नींद में है.

गौरतलब है कि चारंग गांव किन्नौर जिले का अंतिम गांव है. यहां से चंद दूरी पर चीन तिब्बत सीमा है. स्कूल भवन नहीं होने से स्कूली बच्चों को मात्र एक कमरे में या फिर खुले आसमान के नीचे शिक्षा दी जाती है. यहां पर मिडिल व प्राइमरी कक्षाएं एक साथ एक कमरे में चलाई जाती हैं.

किन्नौर- स्कूल भवन के निमार्ण के लिए वर्ष 2016 में लोक निर्माण विभाग को 18 लाख की धनराशि दी गई थी.


ग्रामीण शिक्षा व लोक निर्माण विभाग का करेंगे घेराव 

इस बारे में चारंग निवासी सनम नेगी व प्रदीप नेगी ने कहा कि शिक्षा विभाग, लोक निर्माण विभाग व ठेकेदार की नाकामी के कारण आज गांव के नौनिहालों को खुले में शिक्षा ग्रहण करने पर मजबूर होना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 से चारंग गांव में प्राइमरी व मिडिल स्कूल के बच्चे एक ही कमरे के किराए के भवन में पढ़ रहे हैं. उन्होंने प्रशासन व सरकार से मांग की कि जल्द से जल्द स्कूल भवन निर्माण का काम पूरा किया जाए. ऐसा नहीं किए जाने पर गांव के लोग शिक्षा व लोक निर्माण विभाग का घेराव करेंगे. इस मामले में लोक निर्माण व शिक्षा विभाग ने कोई प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया.

(किन्नौर से अरुण नेगी की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें - अब थ्री व्हीलर पर सख्ती, बिना वर्दी ऑटो चलाने वालों पर कार्रवाई
Loading...

ये भी पढ़ें - लेह तक पहुंचेगी ब्राडगेज लाइन, तीन साल में पूरा होगा सर्वे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रिकांग पिओ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 2, 2019, 3:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...