Home /News /himachal-pradesh /

हिमाचल: छितकुल में ट्रैकिंग पर निकले 11 ट्रैकर्स में से 5 की मौत, 4 लापता, 2 घायलों का रेस्क्यू

हिमाचल: छितकुल में ट्रैकिंग पर निकले 11 ट्रैकर्स में से 5 की मौत, 4 लापता, 2 घायलों का रेस्क्यू

छितकुल के लमखागा में  चार श‌व बरामद किए जा चुके हैं.

छितकुल के लमखागा में चार श‌व बरामद किए जा चुके हैं.

Snowfall in Kinnaur: किन्नौर जिले के छितकुल में पहुंचे छह पोर्टर्स ने पुलिस और जिला प्रशासन को 11 ट्रैकर्स के फंसे होने की जानकारी दी थी. अब इनमें से पांच के शव मिल गए हैं. वहीं, अभी चार लापता हैं, जबकि 2 घायलों का रेस्क्यू किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट – अरुण नेगी

    रिकॉन्गपिओ. हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में छितकुल के लम्खागा दर्रे की ट्रैकिंग पर निकले लापता 11 ट्रैकरों में से पांच के शव मिल गए हैं. सेना ने गुरुवार को दो घायलों को रेस्क्यू कर लिया है, जबकि चार अभी लापता हैं. ये सभी लोग उत्तरकाशी के हर्षिल से होते हुए छितकुल आ रहे थे. मौसम खराब होने की वजह से शवों को एयरलिफ्ट नहीं किया जा सका है. वहीं, एक घायल मिथुन को सेना अपने साथ उत्तरकाशी ले गई है. जबकि दूसरे का इलाज सेना के कैंप में चल रहा है.

    सेना आज (शुक्रवार) को शवों को निकालने के साथ लापता चार लोगों की तलाश करेगी. कुल 17 लोगों के दल में से छह पोर्टर खुद ही सांगला पहुंच गए थे और इन्होंने ही 11 पर्यटकों के फंसे होने की सूचना दी थी.

    5 मौतों की पुष्टि

    डीसी किन्नौर आबिद हुसैन ने 5 मौतों की पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि उत्तरकाशी के हर्षिल से 14 अक्तूबर को 11 ट्रैकरों और छह पोर्टरों का एक दल किन्नौर के छितकुल के लिए निकला था. 17 और 18 अक्तूबर को किन्नौर में भारी बर्फबारी में 11 पर्यटक दर्रे में फंस गए और वे टेंट लगाकर यहीं रुक गए, जबकि नेपाल मूल के छह पोर्टर पैदल ही सांगला के लिए बर्फ में निकल गए थे.

    सेना का हेलिकॉप्टर निकालेगा शव

    ये पोर्टर 20 अक्तूबर को सांगला थाने पहुंचे और जिला प्रशासन को सूचित किया. बीते दिन पैदल रेस्क्यू अभियान में आईटीबीपी और प्रशासन की टीम को सफलता नहीं मिली. जानकारी के अनुसार, गुरुवार को उत्तराखंड के उत्तरकाशी से आए सेना के एक हेलिकॉप्टर से सर्च अभियान चलाया गया. पांच शव और दो घायल उन्हें मिल गए. डीसी किन्नौर आबिद हुसैन सादिक ने बताया कि सेना ने सात ट्रैकरों को रेस्क्यू किया है, जिनमें पांच की मौत हो चुकी है, दो का उपचार चल रहा है, जबकि 4 अभी लापता हैं. लम्खागा दर्रे से होकर छितकुल से सांगला की ओर छह पोर्टर पहुंचे थे, इनमें से चार पोर्टर तुलसी काफले, सुरेंद्र तिमेलासेना, विष्णु पोखरे और बलीराम पैदल सांगला थाना पहुंचे थे.

    बर्फबारी ने रोका रास्ता

    लम्खागा दर्रे में तीन फीट बर्फबारी होने से 11 ट्रैकर एक अस्थायी टेंट में रुक गए थे. 6 पोर्टर टेंट की सुविधा न होने पर चलते-चलते भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल के नित्थल थाच के पास जा पहुंचे. यहां पहुंचकर उन्होंने आईटीबीपी से मदद मांगी थी.

    Tags: Himachal Politics, Shimla Monsoon, Snowfall

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर