फर्जी डिग्री मामला: निजी शिक्षण संस्थान आयोग में ABVP ने काटा बवाल, बोर्ड तोड़ा
Shimla News in Hindi

फर्जी डिग्री मामला: निजी शिक्षण संस्थान आयोग में ABVP ने काटा बवाल, बोर्ड तोड़ा
फेक डिग्री मामले में शिमला में एबीवीपी का प्रदर्शन.

Fake Degree Scam in Himachal: हिमाचल प्रदेश में शिमला के एपीजी यूनिवर्सिटी और सोलन की मानव भारती यूनिवर्सिटी पर पांच लाख से अधिक फर्जी डिग्रायां बनाने और बेचने का आरोप लगा है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में दो निजी विश्वविद्यालयों के फर्जीवाड़े और डिग्रियां बेचने (Fake Degree Scam) के मामले पर News-18 हिमाचल के खुलासे बाद हंगामा जारी है. इस मुद्दे पर मंगलवार को शिमला (Shimla) में ABVP ने निजी शिक्षण संस्थान विनियामक आयोग के कार्यालय में जमकर बवाल काटा.

निजी विश्वविद्यालयों पर कार्रवाई न होने से विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता काफी गुस्से में नजर आए. पहले आयोग की सचिव पूनम का घेराव किया. उनके दफ्तर के भीतर नारेबाजी की और फिर बाहर आकर आयोग का बोर्ड उखाड़ कर तोड़ डाला.

ताला लगाने की कोशिश, पुलिस से भिड़े
इस बीच विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता आयोग के दफ्तर में ताला लगाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया. इस दौरान पुलिस और ABVP कार्यकर्ताओं के बीच जमकर नोंक-झोंक हुई और हल्की झड़प भी हुई. पुलिस के जवान गेट पर डटे रहे. हंगामा बढ़ते देख पुलिस को क्यूआरटी बुलानी पड़ी. एबीवीपी कार्यकर्ता लगातार सरकार और आयोग के चैयरमेन केके कटोच के खिलाफ नारेबाजी करते रहे.
आयोग का बोर्ड उखाड़ कर तोड़ डाला.
आयोग का बोर्ड उखाड़ कर तोड़ डाला.




दफ्तर पर जड़ा ताला
इतना ही नहीं, ABVP ने इसके बाद आयोग के सदस्य डॉ.एसपी कत्याल का भी घेराव किया और फिर उन्हें दफ्तर से बाहर निकाला. बाद में उनके ऑफिस में ताला जड़ दिया. एबीवीपी का कहना है कि निजी विश्वविद्यालयों पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. ऐसे में इस आयोग की कोई जरूरत नहीं है. यहां पर ताला लगाना चाहिए. एबीवीपी ने चैयरमेन समेत पूरे स्टाफ को हटाने की मांग की.

एबीवीपी का कहना है कि निजी विश्वविद्यालयों पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.
एबीवीपी का कहना है कि निजी विश्वविद्यालयों पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है.


ये है मामला
हिमाचल प्रदेश में शिमला के एपीजी यूनिवर्सिटी और सोलन की मानव भारती यूनिवर्सिटी पर पांच लाख से अधिक फर्जी डिग्रायां बनाने और बेचने का आरोप लगा है. इस संबंध में यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन की ओर से प्रदेश सरकार एक पत्र लिखा गया है. इसमें यूजीसी ने कहा कि मानव भारती ने जहां चार से पांच लाख फर्जी डिग्रियां बनाई और बेची हैं. वहीं, शिमला की एपीजी यूनिवर्सिटी ने 15 हजार फर्जी डिग्रियां बांटी हैं.

ये भी पढ़ें: हमीरपुर एसिड अटैक: ‘स्कूल टाइम में छात्र बोल रहा था कि छुट्टी पर फेंकूगा एसिड‘

VIDEO: चलती स्कॉर्पियो में लगी आग, शीशा तोड़कर बाहर निकला ड्राइवर घायल

हिमाचल BJP की प्रदेश कार्यकारिणी का गठन, ये है अध्यक्ष डॉ. बिंदल की नई टीम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading