Home /News /himachal-pradesh /

प्रशासनिक ट्रिब्यूनल ने एक माह में निपटाए 152 मुकदमें

प्रशासनिक ट्रिब्यूनल ने एक माह में निपटाए 152 मुकदमें

प्रशासनिक ट्रिब्युनल ने करीब सात साल बाद एक बार फिर से सुचारू रूप से कार्य करना शुरू कर दिया। ट्रिब्युनल को कार्य संभाले शुक्रवार को एक माह हो गए। एक माह के अंदर कोर्ट में कर्मचारियों से संबधित करीब 295 केस सीधे कोर्ट में दायर हो चुके हैं, जिनमें से 152 केसों का निपटारा हो चुका है।

प्रशासनिक ट्रिब्युनल ने करीब सात साल बाद एक बार फिर से सुचारू रूप से कार्य करना शुरू कर दिया। ट्रिब्युनल को कार्य संभाले शुक्रवार को एक माह हो गए। एक माह के अंदर कोर्ट में कर्मचारियों से संबधित करीब 295 केस सीधे कोर्ट में दायर हो चुके हैं, जिनमें से 152 केसों का निपटारा हो चुका है।

प्रशासनिक ट्रिब्युनल ने करीब सात साल बाद एक बार फिर से सुचारू रूप से कार्य करना शुरू कर दिया। ट्रिब्युनल को कार्य संभाले शुक्रवार को एक माह हो गए। एक माह के अंदर कोर्ट में कर्मचारियों से संबधित करीब 295 केस सीधे कोर्ट में दायर हो चुके हैं, जिनमें से 152 केसों का निपटारा हो चुका है।

अधिक पढ़ें ...
प्रशासनिक ट्रिब्युनल ने करीब सात साल बाद एक बार फिर से सुचारू रूप से कार्य करना शुरू कर दिया। ट्रिब्युनल को कार्य संभाले शुक्रवार को एक माह हो गए। एक माह के अंदर कोर्ट में कर्मचारियों से संबधित करीब 295 केस सीधे कोर्ट में दायर हो चुके हैं, जिनमें से 152 केसों का निपटारा हो चुका है।

ट्रिब्युनल के अध्यक्ष एवं पूर्व न्यायाधीश वीके शर्मा मुकदमों पर सुनवाई कर रहे हैं और रोजाना दर्जनों केसों का निपटाया जा रहा है। ट्रिब्युनल के कार्य शुरू करने से जहां नए विवादों का निपटारा शीघ्र हो रहा है वहीं कई सालों से लंबित पड़े मामलों को भी सुलझाया जा रहा है।

हाईकोर्ट में कर्मचारियों के लंबित पड़े विवादित मामले ट्रिब्युनल को स्थांनातरित होने शुरू हो गए हैं। पिछले दो दिनों में ट्रिब्युनल में 15 नए केस दायर किए गए, जिनमें से आठ विवादों का निपटारा कर दिया गया है।

आप को बता दें कि 28 फरवरी को कई सालों बाद ट्रिब्युनल ने एक बार फिर काम करना शुरू किया है, जिससे हाईकोर्ट में विवादों के अतिरिक्त बोझ में कमी आने की उम्मीद लगाई जा रही है। साथ ही कर्मचारियों के विवादित मामलों को समय पर निपटाने की आस भी बंधी है।

ट्रिब्युनल द्वारा रोजाना निपटाए जा रहे विवादों से लगता है कि कर्मचारियों की उम्मीद पर खरा उतरेगा और समय पर न्याय पाने की इच्छा पूरी होगी।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर