लाइव टीवी

शिमला: कोरोना वायरस को लेकर एडवाजयरी जारी, दूसरे देशों से आने वाले लोगों का होगा पंजीकरण

Pradeep Kumar | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 30, 2020, 3:17 PM IST
शिमला: कोरोना वायरस को लेकर एडवाजयरी जारी, दूसरे देशों से आने वाले लोगों का होगा पंजीकरण
कोरोना वायरस को लेकर शिमला में अलर्ट (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना को लेकर शिमला (Shimla) में अलर्ट (alert) जारी करने के बाद अब कोरोना वायरस को लेकर एडवाजयरी (Advisory) भी जारी कर दी है. इस संबंध में भारत सरकार (Indian government) के कैबिनेट सचिव ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग की.

  • Share this:
शिमला. चीन सहित कई देशों में कोरोना वायरस ने कई लोगों को चपेट में ले लिया है, जबकि भारत भी अब इससे अछूता नहीं है. हालांकि हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में फिलहाल कोरोना वायरस (Corona Virus) से संक्रमित एक भी मामला नहीं है, लेकिन इसकी गंभीरता को देखते हुए सरकार ने शिमला (Shimla) में अलर्ट (alert) जारी करने के बाद अब कोरोना वायरस को लेकर एडवाजयरी (Advisory) भी जारी कर दी है. इस संबंध में भारत सरकार (Indian government) के कैबिनेट सचिव ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग (Video conferencing) के जरिए एक बैठक भी की, जिसमें कोरोना वायरस से निपटने के लिए उठाए गए पगों की जानकारी ली गई.

मैकलोड़गंज में स्थापित होगी आउटपोस्ट

मुख्य सचिव अनिल खाची ने बताया कि हिमाचल में अभी स्थिति सामान्य है और एक भी व्यक्ति कोरोना वायरस से पीड़ित नहीं है. एहतियात के तौर पर हिमाचल ने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि बौद्ध धर्मगुरू दलाईलामा की शरणस्थली मैकलोड़गंज आने वाले लोगों की जानकारी सरकार के साथ साझा करें. प्रदेश सरकार ने मैकलोड़गंज में आउटपोस्ट स्थापित करने का भी फैसला किया, जहां विदेशों से आने वाले लोगों का पंजीकरण होगा और जरूरत पड़ी तो जांच भी की जाएगी.

104 हेल्पलाइन भी की गई एक्टिवेट, लोग फोन पर भी दे सकते हैं जानकारी

इसी तरह प्रदेश के सभी होटलियरों को निर्देश दिए गए हैं कि वे विदेशों से आने वाले लोगों का पंजीकरण करें और उनसे एक डेक्लेरेशन लें कि वे कहां-कहां से होकर आएं हैं. अगर चीन या कोरोना प्रभावित देशों से आए हैं तो उनकी जांच होगी. आम लोगों को जारी एडवायजरी के तहत जो भी चीन या प्रभावित देशों से आए हैं और उन्हें हल्का बुखार कोरोना वायरस के लक्षण हैं तो उन्हें घर में ही आइसोलेट किया जाए. सरकार ने इसके लिए 104 हेल्पलाइन को एक्टिवेट किया है. उस पर कॉल करके लक्षण बता सकते हैं. डॉक्टरों की टीम घर पहुंचकर उनके सैंपल लेगी. जब तक सैंपल पॉजिटिव नहीं पाए जाते तब तक उन्हें अस्पताल शिफ्ट नहीं किया जाएगा, इसके लिए जिला स्तर पर सर्विलांस टीमें गठित की गई हैं.

मरीजों को शिफ्ट करने के लिए एक फुली इक्विप्ड एंबुलेंस भी रहेगी मौजूद

वहीं कोरोना वायरस को लेकर प्रदेश स्तर पर रैपिड रिस्पोंस टीमें भी एक्टिव की गई हैं. एक एबुलेंस फुली इक्विप्ड की जाएगी, जिसके जरिए कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति को तुरंत बड़े अस्पतालों में पहुंचाया जा सके. प्रदेश सरकार के अधिकारी भारत सरकार के साथ निरंतर संवाद में रहेंगे, ताकि किसी भी विपरीत परिस्थिति में भारत सरकार की भी मदद ली जा सके.यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस: विदेश से आने वालों की होगी स्वास्थ्य जांच, अस्पतालों में आइसोलेडेट वार्ड स्थापित

यह भी पढ़ें- मनाली में मौसम हुआ सुहावना, बर्फबारी के बाद पर्यटकों को हो रहा जन्नत का एहसास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 3:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर