हिमाचल: विवाद बढ़ा तो मंत्री महेंद्र सिंह की बेटी ने सोशल मीडिया से हटाई वैक्सीन लगाने वाली तस्वीर

मंत्री महेंद्र सिंह के बेटी वंदना गुलेरिया को शिमला में वैक्सीन लगी थी.

मंत्री महेंद्र सिंह के बेटी वंदना गुलेरिया को शिमला में वैक्सीन लगी थी.

Minister Daughter Corona Vaccination Controversy: मंडी के धर्मपुर जिले से बीडीसी सदस्य वंदना गुलेरिया को एक मई को सोशल मीडिया पर फोटो डाला और लिखा, ‘‘आज हमने भी कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक ली.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Virus) में भाई-भतीजावाद पर सवाल उठ रहे हैं. हालात यह हैं कि वैक्सीनेशन में चहेतों को तवज्जो दी जा रही है. हिमाचल प्रदेश अब तक 18 से 44 साल के लोगों के लिए वैक्सीनेशन (Corona Vaccinations) अभियान शुरू नहीं हुआ है, जबकि कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर (Mahender Singh Thakur) की बेटी वंदना गुलेरिया को वैक्सीनेशन लग गई थी. इस पर विवाद बढ़ने पर वंदना ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से वैक्सीन लगाने वाली तस्वीर हटा दी है.

दरअसल, सवाल उठ रहे थे कि जब 18 से 44 के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए सरकार के पास वैक्सीन नहीं है, फिर पहुंच रखने और रसूखदार लोगों को यह वैक्सीन कैसे लग रही है. हिमाचल कैबिनेट में शामिल महेंद्र सिंह ठाकुर की बेटी वंदना की उम्र अभी 42 साल है. उन्हें शिमला के रिपन अस्पताल में एक मई को वैक्सीन लगी थी.

वंदना ने फेसबुक पर डाली पोस्ट

मंडी के धर्मपुर जिले से बीडीसी सदस्य वंदना गुलेरिया को एक मई को सोशल मीडिया पर फोटो डाला और लिखा, ‘‘आज हमने भी कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी के नेतृत्व में हमारे वैज्ञानिकों ने काफी कम समय में कोविड-19 की वैक्सीन बनाने में सफलता प्राप्त की. आप भी कोविड-19 वैक्सीन अवश्य लगवाएं.” इसके बाद मीडिया में यह मामला आया. विवाद बढ़ता देख वंदना गुलेरिया ने अब फोटो सोशल मीडिया से हटा ली है.
हिमाचल में अभी शुरू नहीं हुआ तीसरा चरण

हिमाचल में तीसरे चरण में 18 से 44 साल के लोगों के लिए वैक्सीनेशन अभियान का अभी आगाज नहीं हुआ है. यहां वैक्सीन का टोटा है और अगले तीन हफ्ते तक सरकार के पास वैक्सीन पहुंचने के उम्मीद है. सरकार ने 1. 7 लाख डोज का ऑर्डर दिया है. जो कि मई के अंत में हिमाचल पहुंचने की उम्मीद है. सरकार की ओर से सीरम संस्थान को भुगतान भी कर दिया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज