हिमाचल कैबिनेट विस्तार: फिर दरकिनार, धूमल की हार के बाद से हाशिये पर हमीरपुर!
Shimla News in Hindi

हिमाचल कैबिनेट विस्तार: फिर दरकिनार, धूमल की हार के बाद से हाशिये पर हमीरपुर!
शिमला में एक कार्यक्रम के दौरान सीएम जयराम ठाकुर और प्रेम कुमार धूमल. (FILE PHOTO)

मंत्रियों के शपथग्रहण के बाद जयराम कैबिनेट में अधिमान न मिलने पर जब सीएम जयराम ठाकुर से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सब बातें उनके ध्यान में हैं, लेकिन सदस्यों की संख्या को लेकर कुछ लिमिटेशन रहती है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में गुरुवार को जयराम मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ. कैबिनेट (‌Cabinet) में लंबे समय बाद जहां सिरमौर जिले को जगह मिली. वहीं, कांगड़ा और बिलासपुर को भी शामिल किया गया. हालांकि, एक बार फिर से हमीरपुर (Hamirpur) को कैबिनेट में जगह नहीं पाई. दरअसल, पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल (Prem Kumar Dhumal) की हार के बाद से ही धूमल हाशिये पर चल रहा है. कैबिनेट से लेकर संगठन में कोई बड़ा नाम शामिल नहीं है. हालांकि, केंद्र में अनुराठ ठाकुर (Anurag Thakur), जो कि हमीरपुर (Hamirpur) से सांसद हैं, जरूर मंत्री हैं.

हमीरपुर से दो नाम थे रेस में

हमीरपुर सदर से विधायक नरेंद्र ठाकुर और भोरंज से विधायक कमलेश कुमारी मंत्रिमंडल की दौड़ में थे. कयास लग रहे थे कि सीएम जयराम ठाकुर दोनों में से किसी एक को कैबिनेट में जगह दे सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. यहां तक कि धूमल के करीबी नेताओं में नरेंद्र बरागटा, विक्रम जरियाल और रमेश ध्वाला को भी कैबिनेट में जगह नहीं मिली है. वहीं, धूमल के करीबी और सरकारघाट से पांच बार के विधायक कर्नल इंद्र सिंह को भी पूरी तरह से दरकिनार कर दिया गया है, जबकि वह काफी सीनियर लीडर हैं और धूमल की हार के बाद उन्होंने अपनी सीट से उन्हें दोबारा चुनाव लड़ने ने के लिए ऑफर की थी. ऐसे में कहा जा सकता है कि धूमल के चुनाव हारने के बाद हमीरपुर जिला राजनीतिक तौर पर हाशिये पर चल रहा है.



शपथ ग्रहण समारोह में नहीं पहुंचे धूमल
पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल को कैबिनेट विस्तार में सीएम जयराम ठाकुर और राज्यपाल का व्यक्तिगत तौर पर शपथ ग्रहण समारोह का न्योता दिया गया था, लेकिन कोविड-19 के प्रकोप के चलते वह शिमला नहीं जा पाए.

क्या बोले सीएम जयराम ठाकुर

मंत्रियों के शपथग्रहण के बाद जयराम कैबिनेट में अधिमान न मिलने पर जब सीएम जयराम ठाकुर से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सब बातें उनके ध्यान में हैं, लेकिन सदस्यों की संख्या को लेकर कुछ लिमिटेशन रहती है. मंत्री के होने पर जिला में विकास भी होता है, लेकिन इससे हटकर प्रदेश सरकार जो कुछ हमीरपुर जिला के लिए कर सकती है, वो कर रही है. उन्होंने कहा कि हमीरपुर जिला महत्वपूर्ण है, क्योंकि इस जिले का केंद्र में भी प्रतिनिधित्व है. जो विकास कार्य हैं उन्हें सरकार प्राथमिकता से कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading