HIV रिपोर्ट मामला: अंकिता के पिता बोले-बेटी की मौत के लिए संजीवनी अस्पताल जिम्मेदार

शिमला (Shimla) के रोहडू (Rohru) के चिडगांव की 22 साल की अंकिता को 21 अगस्त को रोहड़ू के संजीवनी अस्पताल (Sanjeevani Hospital) में भर्ती करवाया गया था. अंकिता गर्भवती थी और उसे पेट दर्द की शिकायत थी. इस दौरान उसके टेस्ट किए गए तो महिला के शरीर में खून की कमी पाई गई थी.

Reshma Kashyap | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 30, 2019, 6:25 PM IST
HIV रिपोर्ट मामला: अंकिता के पिता बोले-बेटी की मौत के लिए संजीवनी अस्पताल जिम्मेदार
रोहडू़ का संजीवनी अस्पताल विवादों में है.
Reshma Kashyap | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 30, 2019, 6:25 PM IST
हिमाचल की राजधानी शिमला (Shimla) में एचआईवी (HIV) की ‘गलत रिपोर्ट’ के बाद सदमे से मौत मामले में अब महिला के पिता का बयान आया है. मृतक अंकिता के पिता ने न्यूज18 से बातचीत में बेटी की मौत के लिए रोहडू़ के प्राईवेट संजीवनी अस्पताल को जिम्मेदार ठहराया है. अंकिता के पिता ने कहा कि संजीवनी अस्पताल पर कार्रवाई होनी चाहिए, क्योंकि मौत के लिए संजीवनी अस्पताल ही जिम्मेदार है.

ये बोले पिता
उन्होंने कहा कि संजीवनी अस्पताल में कुछ ही मिनटों में रिपोर्ट मिल गई थी. हालांकि, अस्पताल ने एचआईवी पॉजिटिव होने की जानकारी नहीं दी थी. पिता ने कहा कि 22 अगस्त को शिमला के कमला नेहरू अस्पताल में HIV पॉजिटिव होने का पता चला था. पिता ने बताया कि संजीवनी हॉस्पिटल से बच्चेदानी की पाइप फटने की जानकारी दी गई और कहा गया कि खून की कमी है.

अस्पताल ने नकारे थे आरोप

इससे पहले, गुरुवार को रोहड़ू के निजी अस्पताल में सारे आरोप नकार दिए थे. हालांकि, अस्पताल ने माना है कि उन्होंने महिला को एचआईवी (HIV) लक्षण होने की पॉजिटिव रिपोर्ट दी थी. लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने इस बात से इंकार किया कि रिपोर्ट की वजह से महिला की मौत हुई है. अस्पताल प्रबंधन ने कहा था कि पीड़िता का अस्पताल में ऑपरेशन संभव नहीं था, इसलिए उसे रेफर किया गया. महिला की मौत के कारण कुछ और ही हैं. 22 साल की महिला को गंभीर हालत में यहां लाया गया था.

यह है मामला
शिमला के रोहडू के चिडगांव की 22 साल की अंकिता को 21 अगस्त को रोहड़ू के संजीवनी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. अंकिता गर्भवती थी और उसे पेट दर्द की शिकायत थी. इस दौरान उसके टेस्ट किए गए तो महिला के शरीर में खून की कमी पाई गई. इसके बाद महिला को शिमला के कमला नेहरू अस्पताल भेजा गया. यहां से महिला आईजीएमसी (IGMC) शिमला लाई गई. इस दौरान महिला की हालत बिगड़ गई और कोमा में जाने के बाद उसकी मौत हो गई.
Loading...

विधानसभा में भी उठा था मुद्दा
बुधवार को हिमाचल विधानसभा में भी यह मुद्दा गूंजा था. म़ॉनसून सत्र के दौरान सदन में रोहड़ू से कांग्रेस (Congress) विधायक मोहन लाल ब्राक्टा ने मामला उठाया था. इस पर सीएम ने स्वास्थ्य निदेशक को जांच के आदेश दिए थे. सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने कहा था कि 15 दिन में मामले की जांच की जाएगी.

ये भी पढ़ें: कर्जे में डूबे हिमाचल में मंत्री-MLA के बढ़ेंगे वेतन-भत्ते

हिमाचल में अब जबरन धर्मांतरण पर 5 साल की कैद

आउटसोर्स कर्मियों को झटका, अनुबंध पर नहीं लाएगी हिमाचल सरकार

गरीबी का फायदा उठाकर कुछ संस्थाएं करवा रही धर्म परिवर्तन: CM

अगवा हिमाचली किशोरी से पंजाब में गैंगरेप, चंडीगढ़ से बरामद

PHOTOS: मनाली में 9000 फीट की ऊंचाई पर हवा में Cycling!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 4:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...