जानिए कैसे, हिमाचल का मड़ावग सेब के दम पर बना एशिया का सबसे अमीर गांव

मड़ावग के किसानों ने मेहनत और लगन से अपने गांव को एशिया का सबसे अमीर गांव बना दिया है. इस गांव के सभी लोग सेब की खेती करते हैं. मड़ावग गांव में बीती सदी के 80 के दशक तक सेब का नामोनिशान तक नहीं था.

News18 Himachal Pradesh
Updated: August 5, 2019, 11:12 AM IST
जानिए कैसे, हिमाचल का मड़ावग सेब के दम पर बना एशिया का सबसे अमीर गांव
मड़ावग के किसानों ने अपनी मेहनत और लगन से अपने गांव को एशिया का सबसे अमीर गांव बना दिया है.
News18 Himachal Pradesh
Updated: August 5, 2019, 11:12 AM IST
हिमाचल प्रदेश के शिमला जिले की चौपाल तहसील में बसा मड़ावग गांव अपनी अमीरी के लिए दुनिया भर में चर्चा में है. मड़ावग के किसानों ने अपनी मेहनत और लगन से अपने गांव को एशिया का सबसे अमीर गांव बना दिया है. इस गांव की आबादी लगभग 2000 है. गांव के सभी लोग सेब की खेती ही करते हैं. यहां सालाना करीब 7 लाख पेटी सेब का उत्पादन होता है. यह गांव शिमला से 92 किलोमीटर की दूरी पर 7774 फीट की ऊंचाई पर बसा है.

यहां सेब के इन किस्मों की होती है पैदावार

apple-सेब
यहां राॅयल एपल, रेड गाेल्ड, गेल गाला जैसी कई किस्में पैदा की जाती हैं. यहां प्रत्येक परिवार की आमदानी सालाना 75 लाख रुपये के करीब है.


इस गांव में सबसे उत्तम किस्म का सेब उगाया जाता है. यहां राॅयल एपल, रेड गाेल्ड, गेल गाला जैसी कई किस्में पैदा की जाती हैं. यहां प्रत्येक परिवार की आमदानी सालाना 75 लाख के करीब है. आपको यह जानकार अचरज होगा कि यहां 1980 के दशक तक सेब का नामोनिशान तक नहीं था.

बाजार का भाव इंटरनेट से पता करके अपने सेब की तय करते हैं कीमत
गांव के किसान अपनी खेती में नई तकनीक का इस्तेमाल करते हैं. इंटरनेट के जरिये देश विदेश के बाजार भाव की जानकारी हासिल करके वे अपने सेब का दाम लगाते हैं. आज यह गांव पूरे देश में किसानों के लिए रोल मॉडल बन चुका है.

दुनियाभर में भेजे जाते हैं 15 लाख बॉक्स सेब
Loading...

मड़ावग गांव में बीती सदी के 80 के दशक तक सेब का नामोनिशान तक नहीं था. इस गांव के किसान हीरा सिंह डोगरा पहली बार 1990 में सेब का पौधा लेकर आए थे. उनकी सफलता देखकर धीरे-धीरे पूरा गांव ही सेब का उत्पादन करने लग गया. आज मड़ावग सहित पूरी पंचायत से 12 से 15 लाख बॉक्स सेब हर साल दुनियाभर में जाता है.

यह भी पढ़ें: ऊना के गबरू एवी का पंजाबी गाना यूट्यूब पर छाया, तीन दिनों में लाख पार कर गई दर्शकों की संख्या

धवाला ने अपनी सरकार को दी नसीहत, कहा- खैर और चंदन कर्ज से दिला सकता है मुक्ति
First published: August 5, 2019, 10:27 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...