Assembly Banner 2021

हिमाचल बजट सत्र: हंगामे के आसार, सत्तापक्ष भी जबाव के लिए तैयार

हिमाचल विधानसभा सत्र के हंगामेदार होने के आसार.

हिमाचल विधानसभा सत्र के हंगामेदार होने के आसार.

Himachal Assembly Budget Session 2021: नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री (Mukesh Agnihotri) का कनहा है कि जयराम सरकार केवल घोषणाओं करती है, डिलीवरी फ्रंट पर सरकार नाकाम है.

  • Share this:
शिमला. 26 फरवरी से हिमाचल प्रदेश विधानसभा का बजट (Budget Session) सत्र शुरू हो रहा है. राजधानी शिमला में सत्र शुरू होने से एक दिन पहले विधानसभा अध्यक्ष विपिन परमार ने सर्वदलीय बैठक का आयोजन किया. विपक्षी नेता बैठक में तो शांत रहे लेकर, लेकिन बाहर आकर आक्रामक तेवर में नजर आए. नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री और माकपा विधायक राकेश सिंघा ने साफ कर दिया कि सदन के शांतिपूर्ण तरीके से चलने के आसार कम ही हैं. सीएम जयराम ठाकुर ने भी जबावी हमला करने में देर नहीं की.


सर्वदलीय बैठक में सत्ता पक्ष की ओर से कैबिनेट मंत्री सुरेश भारद्वाज और मुख्य सचेतक नरेंद्र बरागटा मौजूद रहे. विपक्ष की ओर से नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री और माकपा विधायक राकेश सिंघा ने बैठक में शिरकत की. इस दौरान विधानसभा स्पीकर ने सभी से सदन की कार्यवाही सुचारू रूप चलाने में सहयोग का आहवान किया. साथ ही जनहित के मुद्दों को ही सदन में उठाने की अपील की.

ये बोला विपक्ष


इस दौरान नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार सदन की बैठकों का समय कम कर रही है, जनहित्त से जुड़े मुद्दों पर चर्चा से भाग रही है. नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि जयराम सरकार केवल घोषणाओं की सरकार है. योजनाओं को लागू करने यानी डिलीवरी फ्रंट पर नाकाम है और घोषणाओं में कामयाब है. उन्होंने कहा कि पिछले तीन बजट में बहुत घोषणाएं हुई हैं लेकिन कोई पूरी नहीं हुई. सरकार ने कितनी नईं योजनाओं की घोषणाएं की ये सरकार को खुद को भी याद नहीं है. माकपा विधायक राकेश सिंघा कानून-व्यवस्था का मुद्दा उठाएंगे. गुड़िया कांड, होशायर सिंह और जिनेदिन जिदान की मौत का मामला उठाने का ऐलान किया है. विपक्ष सरकार को महंगाई, बेरोजगारी, बस किराया बढ़ौतरी से लेकर भ्रष्टाचार सहित तमाम मुद्दों पर घेरेगी.




 सीएम ने किया पलटवार


नेता प्रतिपक्ष की टिप्पणी पर सीएम जयराम ठाकुर ने भी चुटकी ली है. डिलीवरी फ्रंट के मुद्दे पर मुख्यमंत्री ने मजाकिया लहजे में कहा कि विपक्ष की डिलीवरी पिछले विधानसभा चुनावों में हो गई है. उप-चुनाव और पंचायती राज संस्थाओं के रिजल्ट बता रहे हैं सरकार ने कितना काम किया है. सीएम ने कहा कि सरकार विपक्ष के हमलों का जबाव देने के लिए पूरी तरह तैयार है.


ये भी पढ़ें: UP: लव जिहाद कानून पर लगी मुहर, धर्म परिवर्तन विधेयक विधान परिषद में भी पारित


20 मार्च तक चलेगा सत्र


विधानसभा अध्यक्ष ने बताया कि सत्र के दौरान कुल 650  तारांकित प्रश्न और 230 अतारांकित प्रश्न पूछे जाएंगे. राज्यपाल के अभिभाषण के साथ सत्र की शुरूआत होगी. सत्र के दौरान कोविड के नियमों की सख्ती से पालना होगी. परिसर के भीतर बिना थर्मल स्कैनिंग के किसी को भी प्रवेश नहीं मिलेगा. स्वास्थ्य विभाग की टीम और टेस्टिंग वैन भी मौजूद रहेगी. विधानसभा परिसर में आइसोलेशन रूम स्थापित किया गया है. इस बार 1200 के बजाए मात्र 400 के करीब अधिकारियों और कर्मचारियों को पास जारी किए गए हैं.  दर्शक दीर्घा इस बार खाली रहेगी. कोविड के विजिटर पास जारी नहीं किए गए है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज