मंत्रियों-विधायकों के लिए शिमला में मांगी भीख, CM रिलीफ फंड में जमा होगा पैसा

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मंत्रियों और विधायकों के लिए बुधवार को भीख मांगी. मंत्रियों और विधायकों के यात्रा भत्ते में की गई वृद्धि के विरोध स्वरूप ऐसा किया गया.

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 5, 2019, 11:10 AM IST
मंत्रियों-विधायकों के लिए शिमला में मांगी भीख, CM रिलीफ फंड में जमा होगा पैसा
मंत्रियों और विधायकों का यात्रा भत्ता बढ़ाने के विरोध में शिमला में भीख मांगते सामाजिक कार्यकर्ता
Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 5, 2019, 11:10 AM IST
शिमला. हिमाचल प्रदेश में मंत्रियों-विधायकों का अपना यात्रा भत्ता बढ़ाना प्रदेश की जनता को पसंद नहीं आया है. लोग इसका तरह-तरह से विरोध कर रहे हैं. विरोध की इसी कड़ी में बुधवार को शिमला में सामाजिक कार्यकर्ताओं ने मंत्रियों और विधायकों के लिए लोगों से एक-एक रुपये की भीख मांगी. सोशल एक्टिविस्ट रवि कुमार दलित ने यात्रा भत्ता बढ़ोतरी के विरोध में रिज मैदान, सीएम आवास के बाहर और राज्य सचिवालय के नजदीक भीख मांगी. इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे. इस भीख से जुटाई गई राशि को राज्यपाल के माध्यम से सीएम रिलीफ फंड में भेजा जाएगा.

प्रदेश सरकार अपने फैसले पर पुनर्विचार करे : रवि कुमार

रवि कुमार ने कहा कि प्रदेश पहले ही आर्थिक संकट से जूझ रही है और ऐसी स्थिति में मंत्रियों और विधायकों ने अपना यात्रा भत्ता बढ़ा लिया, जो सही नहीं है. प्रदेश सरकार अपने फैसले पर पुनर्विचार करे और कैबिनेट में बिल को निरस्त कराया जाए. उल्लेखनीय है कि प्रदेश में सभी माननीयों को अब तक यात्रा भत्ता के रूप में 2.5 लाख रुपये मिलते थे, जिसे बढ़ाकर 4 लाख रुपए (Lakhs) सालाना कर दिया गया है. पूर्व विधायकों का सवा लाख से बढ़ाकर दो लाख किया गया है. इसमें विदेश यात्रा भी शामिल है. इसके अलावा प्रदेश के बाहर टैक्सी बिलों का भुगतान भी इसी राशि के तहत होगा. यात्रा भत्ता बढ़ने के बाद सरकारी खजाने पर करीब 2 करोड़ 10 लाख रुपये का सालाना अतिरिक्त बोझ पड़ेगा.

मंत्रियों और विधायकों का यात्रा भत्ता बढ़ाने के विरोध में शिमला की सड़कों पर लोगों से एक-एक रुपया भीख मांगी गई


 

माननीय को मासिक 2 लाख 10 हजार रुपये सैलरी मिलती है

हिमाचल में प्रत्येक माननीय को मासिक 2 लाख 10 हजार रुपये सैलरी मिलती है, जिसमें 55 हजार रूपये बेसिक सैलरी, 90 हजार चुनाव क्षेत्र घूमने का भत्ता, 5 हजार रुपये कम्पयूटर भत्ता, 15 हजार रुपये टेलीफोन भत्ता, 30 हजार रुपये ऑफिस भत्ता, 15 हजार रुपये डाटा एंट्री ऑपरेटर भत्ता शामिल है. यात्रा भत्ते में 60 फीसदी की हुई इस बढ़ोतरी का पूर्व सीएम और भाजपा के दिग्गज नेता प्रेम कुमार धूमल ने विरोध किया है. उन्होंने कहा है कि आर्थिक संकट के इस दौर में सरकार को इस तरह की फैसलों से बचना चाहिए.
Loading...

ये भी पढ़ें- MLA भत्ता बढ़ोतरी मामला: पूर्व CM धूमल की नसीहत, ऐसे फैसलों से बचे सरकार

 हिमाचल पुलिस दागदार: CID में तैनात पुलिसकर्मी ने टीचर से की छेड़छाड़, FIR

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 7:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...