हिमाचल BJP में गुटबाजी! कौन हैं वो नेता, जो पूर्व मंत्री बरागटा के लिए बन रहे हैं परेशानी?

सीएम जयराम ठाकुर के साथ नरेंद्र बरागटा. (FILE PHOTO)
सीएम जयराम ठाकुर के साथ नरेंद्र बरागटा. (FILE PHOTO)

Narinder Baragta Meets CM Jairam Thakur: सोमवार को मुख्य सचेतक एवं जुब्बल-कोटखाई के भाजपा (BJP) विधायक नरेंद्र बरागटा (Narinder Baragta) ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से सीएम (CM) निवास ओकओवर में मुलाकात की. दो घंटे की मुलाकात चली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 11:28 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश भाजपा (BJP) में एक बार से फिर से गुटबाजी की चिंगारी फूटी है. सूबे के सबसे बड़े विधानसभा क्षेत्रों को समेटे जिला कांगड़ा (Kangra) के बाद अब शिमला में भी भाजपा नेताओं में खींचतान शुरू हो गई है.

सोमवार को मुख्य सचेतक एवं जुब्बल-कोटखाई के भाजपा (BJP) विधायक नरेंद्र बरागटा (Narinder Baragta) ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से सीएम (CM) निवास ओकओवर में मुलाकात की. दो घंटे की मुलाकात चली. इस दौरान बरागटा ने उनके हलके में एक नेता के हस्तक्षेप पर नाराजगी जताई है. उन्होंने अपने हलके में अंधाधुंध तबादलों सहित कई मामलों को सीएम के सामने उठाया है. मुलाकात के बाद बरागटा ने एक प्रेस रिलीज भी जारी की, जिसमें अपनी नाराजगी और दर्द भी लिखा.

भाजपा अध्यक्ष से भी मिलेंगे
दरअसल, जुब्बल-कोटखाई में भारद्वाज के कुछ समर्थक भी बरागटा के समर्थकों को अखर रहे थे.बताया जा रहा है कि बरागटा ने एक नेता के उनके विधानसभा क्षेत्र में अनावश्यक हस्तक्षेप पर सीएम से बात की है बरागटा का कहना है कि वह जल्द भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप, संगठन मंत्री पवन राणा और प्रदेश के शीर्ष नेतृत्व से मिलेंगे. हिमाचल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने एक अक्तूबर को मिलने का समय दिया है.
नरेंद्र बरागट की ओर से जारी एक पत्र.
नरेंद्र बरागट की ओर से जारी एक पत्र.




प्रेस रिलीज में क्या लिखा
शिमला सिटी से विधायक और मंत्री सुरेश भारद्वाज और बरागटा के बीच लम्बे समय से खींचतान चल रही है. नीलम सरैक को भाजपा महिला मोर्चा की प्रवक्ता बनाना भी बरागटा समर्थकों को अखरा है. शिमला में नरेंद्र बरागटा के बेटे और बीजेपी आईटी सेल के प्रदेश प्रमुख चेतन बरागटा का कंगना प्रकरण में अतिरिक्त सक्रिय होना भी मंत्री के करीबियों और राजनीतिक हितैषियों को अखरा है. प्रेस रिलीज में बरागटा ने लिखा है कि अगर शीघ्र कोई कार्रवाई नहीं की गई तो यह संगठन की दृष्टि से घातक हो सकता है. सीएम से मुलाकात के दौरान बरागटा ने कोटखाई के गुड़िया कांड और बागवानों की समस्याओं को लेकर भी चर्चा की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज