लाइव टीवी

BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा पढ़ाई में रहे अव्वल, नहीं लेते थे कभी भी उधार
Shimla News in Hindi

Reshma Kashyap | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 20, 2020, 7:08 PM IST
BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा पढ़ाई में रहे अव्वल, नहीं लेते थे कभी भी उधार
बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने पर जेपी नड्डा को बधाई देते गृहमंत्री अमित शाह

बिलासपुर के रहने वाले जगत प्रकाश नड्डा (Jagat Prakash Nadda) दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी कही जाने वाली भाजपा (BJP) के सरदार बनाए गए हैं. उनका छात्र जीवन शानदार रहा है.

  • Share this:
शिमला. देश की राष्ट्रीय राजनीति में हिमाचल के लिए आज का दिन अहम है. प्रदेश के बिलासपुर के रहने वाले जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी कही जाने वाली भाजपा (BJP) की सरदार बनाए गए हैं. पहली बार भाजपा की कमान पहाड़ी राज्य का कोई नेता संभाल रहा है. भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष (National President)  की कुर्सी संभालने वाले जगत प्रकाश नड्डा 1993 में विधानसभा चुनाव लड़ने के बाद भाजपा विधायक दल के नेता बने थे. कड़े संघर्ष के बाद भाजपा संसदीय बोर्ड का सचिव पद भी नड्डा के पास रहा. नड्डा 1975 में जेपी आंदोलन से सुर्खियों में आए. इस आंदोलन में भाग लेने के बाद जेपी नड्डा बिहार में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल हुए. 1977 में छात्र संघ का चुनाव लड़ा और सचिव बने थे. पटना से स्नातक करने के बाद नड्डा ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से एलएलबी की पढ़ाई की.

वर्ष 1983 में वे एचपीयू के एबीवीपी के अध्यक्ष चुने गए

वर्ष 1983 में पहली बार हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के छात्र संघ चुनाव में वह विद्यार्थी परिषद के अध्यक्ष चुने गए और यहीं से उनके राजनीतिक करियर की शुरूआत हुई. एचपीयू के एडमिन ब्लॉक में बतौर कलर्क काम कर रहे जोगिदर सिंह ने बताया कि जेपी नड्डा पढ़ाई में काफी अच्छे थे. उन्होंने एचपीयू से एलएलबी की पढ़ाई की है. उस वक्त उनका व्यक्तित्व काफी प्रभावी था. जेपी उस वक्त भी अपने काम के प्रति भी काफी गंभीर थे. भविष्य में नड्डा उंचाईयों तक जाएंगे वह उनके विद्यार्थी जीवन में एबीवीपी कार्यकर्ता के समय से ही झलक मिल जाती थी.

जेपी नड्डा ने छात्र जीवन में ही सबका जीत लिया था दिल

जेपी नड्डा ने जब एबीवीपी कार्यकर्ता के रूप में काम करना शुरू किया था, उस वक्त उन्होंने समरहिल चौक पर कई विरोध प्रदर्शन किए और चौक पर बने पोस्ट ऑफिस के बाहर खड़े होकर कई बार विद्यार्थियों को संबोधित किया. अपने विद्यार्थी जीवन में ही जेपी नड्डा ने अपने अच्छे व्यवहार से सबका दिल जीत लिया था. समरहिल चौक पर स्थित राशन की दुकान से जेपी नड्डा राशन लिया करते थे, लेकिन उन्होंने कभी उधार नहीं लिया था. दुकानदार अश्वनि कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि जेपी नड्डा उनकी दुकान से राशन लिया करते थे, बाकि स्टूडेंट की तरह वह कभी भी उधार नहीं लेते थे.

नड्डा छात्र जीवन से ही प्रभावी भाषण ​देते रहे

यह जानकारी मिली कि जब जेपी नड्डा चौक पर भाषण देना शुरू करते थे तो वह इतना प्रभावी होता था कि आसपास के लोग भी उनका भाषण सुनने के लिए इकट्ठे हो जाते थे. वहीं एचपीयू के एबीवीपी कार्यकर्ताओं में इस बात को लेकर काफी हर्ष है कि एक छात्र नेता के रूप में अपना करियर शुरू करने वाला व्यक्ति भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठे हैं. वह जेपी नड्डा को अपने आदर्श के रूप में देखते हैं.यह भी पढ़ें:  जेपी नड्डा के BJP अध्यक्ष बनने पर CM बोले-छोटे से हिमाचल के लिए बड़ी बात

जब स्कूल के अपग्रेडेशन मुद्दे पर जेपी नड्डा ने किया आंदोलन और पुलिस को चलानी पड़ी थीं गोलियां

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 7:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर