हिमाचल: कोरोना संकट के बीच जनता पर नया बोझ, सरकार ने बस किराया 25% बढ़ाया
Shimla News in Hindi

हिमाचल: कोरोना संकट के बीच जनता पर नया बोझ, सरकार ने बस किराया 25% बढ़ाया
हिमाचल सरकार ने बस किराया 25 प्रतिशत बढ़ा दिया है. (फाइल फोटो)

कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के पिछले तीन महीने में राज्य की अर्थव्यवस्था को करीब 30 हजार करोड़ का नुकसान (Loss) पहुंचा है. इस नुकसान की भरपाई के लिए सरकार ने न्यूनतम बस किराया (Bus Fare) 5 रुपये से बढ़ाकर 7 रुपये कर दिया है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल मंत्रिमंडल (Himachal Cabinet) की बैठक खत्म हुई है. बैठक में सरकार ने बस किराया (Bus Fare) 25 प्रतिशत बढ़ाने का फैसला लिया है. शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज (Suresh Bhardwaj) ने इसकी पुष्टि की है. दरअसल कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की वजह से परिवहन क्षेत्र को काफी नुकसान पहुंचा है. लिहाजा अब सरकार जनता की जेब पर बोझ डालने का निर्णय लिया है.

जानकारी के मुताबिक अकेले एचआरटीसी को हर सप्ताह 5 करोड़ का नुकसान हो रहा है. इसको देखते हुए सरकार ने सीटिंग एमएलए और एमपी को सरकारी बसों में मिलने वाली फ्री सेवा पर भी रोक लगा दिया है. हालांकि पूर्व एमएलए और पूर्व एमपी को इसमें छूट दी गई है. वे फ्री सेवा का लाभ उठाते रहेंगे.

कोरोना संक्रमण के पिछले तीन महीने में राज्य की अर्थव्यवस्था को करीब 30 हजार करोड़ का नुकसान पहुंचा है. इस नुकसान की भरपाई के लिए सरकार ने न्यूनतम बस किराया 5 रुपये से बढ़ाकर 7 रुपये कर दिया है.



शिक्षा मंत्री ने दी ये सफाई
बस किराये में बढ़ोतरी को सही ठहराते हुए शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि मंत्रिमंडल किराया बढ़ाने के हक में नहीं था, लेकिन डीजल के दाम बढ़ गये हैं और कोरोना वायरस के कारण बसों में सवारियों की भी कमी है. इस कारण सरकार ने एचआरटीसी और परिवहन विभाग को किराया बढ़ाने की मंजूरी दी है.

कैबिनेट की बैठक में शिक्षा विभाग में खाली पड़े 771 सहायक लाइब्रेरियन के पद को जूनियर ऑफिसर असिस्टेंट लाइब्रेरी में कन्वर्ट करने को भी मंजूरी दी गई है. बैठक में कुल पांच एजेंडों पर फैसला लिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज