10 करोड़ की रंगदारी केस: आरोपी का पता, मुर्गा गैंग, सेक्टर 22, चंडीगढ़

जानकारी के अनुसार, शिमला के इस कारोबारी के होटल के अलावा लोअर बाजार में एक ज्वैलरी शॉप भी है. स्पीड पोस्ट के जरिये ये लैटर भेजा गया है. News-18 के पुख्ता सूत्रों के अनुसार, मॉल रोड स्थित जनरल पोस्ट ऑफिस से यह पत्र पोस्ट किया गया है.

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 25, 2019, 11:33 AM IST
10 करोड़ की रंगदारी केस: आरोपी का पता, मुर्गा गैंग, सेक्टर 22, चंडीगढ़
शिमला के इसी पोस्ट ऑफिस से दस करोड़ की मांग वाला पत्र भेजा गया गया है.
Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 25, 2019, 11:33 AM IST
हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में एक कारोबारी से 10 करोड़ रुपए की रंगदारी के मामले पर सदर थाने मे FIR दर्ज की गई है. पोस्ट ऑफिस का सीसीटीवी फुटेज खंगाला गया है. साथ ही मामले से जुड़े अन्य पहलुओं पर भी जांच जारी है. डीएसपी दिनेश शर्मा का कहना है कि मामले की गंभीरता को देखते हुए तफ्तीश की जा रही है.

पत्र में ये लिखा है
पुख्ता सूत्रों के मुताबिक, कारोबारी को एक पन्ने का धमकी पत्र लिखा गया है. धमकी पत्र में पूरे परिवार का जिक्र किया है. यह भी बताया गया है कि उसके बच्चे कहां पढ़ते हैं और बच्चों को स्कूल छोड़ने और लेने कौन जाता है. साथ ही टाइमिंग भी बताई गई है.

पंद्रह अगस्त तक मांगे पैसे

15 अगस्त के दिन रकम देने की मांग की गई है. तय तारीख तक अगर पैसे नहीं दिए गए तो दिसंबर तक अंजाम भुगतने की धमकी दी गई है. पैसे देने की जगह और समय का नहीं बताया गया है. जगह के बारे में लोकल नंबर से फोन कर बताया जाएगा.

ये है आरोपी का पता
चिट्ठी भेजने वाले ने अपना पता सीता राम, मुर्गा गैंग, सेक्टर-22 चंडीगढ़ बताया है.एक ही पन्ने पर सारी बातें लिखी गई हैं. चिट्ठी हाथों से लिखी गई है, लेकिन चिट्ठी की फोटोस्टेट कॉपी भेजी गई है. चिट्ठी के अंदर और स्पीड पोस्ट के लिफाफे पर लिखावट अलग-अलग है. पुलिस मामले पर ज्यादा कुछ कहने से बच रही है, लेकिन दावा किया जा रहा है कि जल्द ही आरोपी को पकड़ लिया जाएगा.
Loading...

स्पीड पोस्ट किया लैटर
जानकारी के अनुसार, शिमला के इस कारोबारी के होटल के अलावा लोअर बाजार में एक ज्वैलरी शॉप भी है. स्पीड पोस्ट के जरिये ये लैटर भेजा गया है. News-18 के पुख्ता सूत्रों के अनुसार, मॉल रोड स्थित जनरल पोस्ट ऑफिस से यह पत्र पोस्ट किया गया है.

एक और युग कांड की कोशिश?
गौरतलब है कि शिमला में फिरौती के लिए एक बच्चे की हत्या कर दी गई थी. 14 जून 2014 को शिमला के रामबाजार से 4 साल का मासूम युग रहस्मयी ढंग से लापता हो गया था. दो साल बाद अगस्त 2016 को भराड़ी में पानी के टैंक से युग का कंकाल मिला. युग को छोड़ने के बदले में दोषियों ने उसके पिता विनोद से साढ़े तीन करोड़ की फिरौती मांगी थी. फिरौती न मिलने पर आरोपियों ने युग की हत्या कर उसके शव को पानी की टैंक में फैंक दिया. दो साल तक युग का कोई पता नहीं चला. बाद में उसका कंकाल टैंक से मिला था. मामले में चंद्र शर्मा, तेजेंद्र पाल और विक्रांत, तीनों युग के पड़ोसी थे, को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है.

ये भी पढ़ें: शिमला के होटल और ज्वैलर कारोबारी से 10 करोड़ रंगदारी मांगी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 25, 2019, 11:18 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...