SDM ऑफिस विवाद : अपने ही गृह हलके में घिरे सीएम जयराम ठाकुर

इस विवाद के बीच प्रदेश सरकार ने थुनाम में एसडीएम कार्यालय की अधिसूचना जारी कर दी. साथ ही यह भी निर्देश दिए कि एसडीएम थुनाग महीने में चार दिन जंजैहली में भी बैठेंगे. लेकिन यह कदम भी कामयाब नहीं रहा और विरोध जारी है.

News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 2:48 PM IST
SDM ऑफिस विवाद : अपने ही गृह हलके में घिरे सीएम जयराम ठाकुर
जैंजहली में बीते पंद्रह दिन से विरोध-प्रदर्शन चल रहा है.
News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 2:48 PM IST
सीएम जयराम ठाकुर के गृह हलके सिराज के जंजैहली में उठी विरोध की चिंगारियां लगातार बढ़ रही है. डैमेज कंट्रोल की कोशिशें भी नाकाम हो गई हैं. अब बीजेपी आंदोलन को राजनीति से प्रेरित बता रही हैं तो कांग्रेस की नसीहत है कि संस्थान बंद करना भूल जाए, बीजेपी वरना ऐसी चिंगारी पूरे प्रदेश में फैल सकती है.

जंजैहली में एसडीएम ऑफिस और छतरी में सब तहसील की अधिसूचनाएं रदद होने के बाद जंजैहली पूरी जल रहा है. लोग सड़कों पर हैं. कई दिन हो चुके हैं लेकिन इस आंदोलन की आग पर पानी फेरने की तमाम कोशिशें फेल हो चुकी हैं. अब विरोध दिनों दिन बढ़ता जा रहा है.

...तो विरोध की चिंगारी पूरे प्रदेश में भड़क सकती है : कांग्रेस
हालात यह हैं कि इस पर अब राजनीति खूब हो रही है। कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने इस घटना पर सीएम जयराम ठाकुर को नसीहत भरे लहजे में कहा कि जंजैहली का मामला संस्थान बंद करने से जुड़ा है, इसलिए संस्थान, कालेज, स्कूल बंद करने की सीएम न सोचें. क्योंकि ऐसा हुआ तो विरोध की चिंगारी पूरे प्रदेश में भड़क सकती है. जहां जश्न होना चाहिए था वहां धारा 144 लगी है.

घटनाक्रम के लिए कांग्रेस जिम्मेदार : भाजपा
दूसरी ओर बीजेपी ने इस पूरे घटनाक्रम के लिए कांग्रेस को ही जिम्मेदार ठहराया है. बीजेपी प्रदेश मुख्य प्रवक्ता रणधीर शर्मा ने कहा कि यह आंदोलन राजनीति से प्रेरित है.

कांग्रेस घटिया राजनीति कर रही है. बीजेपी ने सिराज को सीएम दिया है इसलिए यहां से कुछ लिया नहीं जाएगा, बल्कि दिया ही जाएगा.दरअसल, जंजैहली विवाद तब उत्पन्न हुआ जब हाईकोर्ट ने जंजैहली में एसडीएम कार्यालय और छतरी सब तहसील की अधिसूचना निरस्त कर दी हैं.

2016 में हुई थी जैंजहली एसडीएम ऑफिस की अधिसूचना
कांग्रेस सरकार ने 21 अप्रैल 2016 को जंजैहली में एसडीएम कार्यालय और 27 जून 2016 को छतरी में उपतहसील खोलने की अधिसूचनाएं जारी की थी। ग्राम पंचायत थुनाग ने इस बात को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई था. बीते 4 जनवरी को इसपर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने इस दोनों ही अधिसूचनाओं को रद्द करने का फरमान सुना दिया था. इसकी भनक किसी को भी नहीं लगी और जब इसकी कॉपी सामने आई तो फिर बवाल मच गया है.

विरोध के बाद प्रदेश सरकार ने ये व्यवस्था की
इस विवाद के बीच प्रदेश सरकार ने थुनाम में एसडीएम कार्यालय की अधिसूचना जारी कर दी. साथ ही यह भी निर्देश दिए कि एसडीएम थुनाग महीने में चार दिन जंजैहली में भी बैठेंगे. लेकिन यह कदम भी कामयाब नहीं रहा और विरोध जारी है.

हालांकि, इस पूरे घटनाक्रम से एक बात साफ नजर आ रही है कि इसमें राजनीतिक और प्रशासनिक दोनों स्तर पर चूक की गईं. अब देखना यह है कि विरोध की यह आग कब बुझेगी.
News18 Hindi पर Bihar Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Himachal Pradesh News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर