Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    BJP में धवाला V/S राणा: CM जयराम ठाकुर बोले-BJP बड़ी पार्टी, अंदर से निकालेंगे रास्ता

    विधायक रमेश धवाला और संगठन मंत्री पवन राणा.
    विधायक रमेश धवाला और संगठन मंत्री पवन राणा.

    Clash in Himachal BJP: हटाए गए पदाधिकारियों पर आरोप था कि वो पार्टी लाइन से बाहर जाकर संगठन के खिलाफ बयानबाजियां कर रहे हैं. पार्टी की कार्रवाई पर रमेश धवाला ने नाराजगी जाहिर की और सीएम जयराम ठाकुर से मिले हैं.

    • Share this:
    शिमला. हिमाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (‌BJP) में कांगड़ा में एक बार फिर से गुटबाजी देखने को मिली है. भाजपा के ज्वालामुखी मंडल को भंग कर दिया गया है. इस पर हमीरपुर जिले में सीएम जयराम ठाकुर ने प्रतिक्रिया दी है.

    कैबिनेट मंत्री सरवीण चौधरी और विधायक रमेश ध्वाला (Ramesh Dhawala) की नाराजगी पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि दोनों पार्टी में है और पार्टी की अर्तकलह पर टिप्पणी करने की आवश्यकता नहीं है. उन्होंने कहा कि भाजपा एक बड़ी पार्टी है और अंदर का रास्ता निकाला जाएगा. वहीं, उन्होंने मंत्रियों के फेरबदल और नए चेहरे पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मंत्रिमंडल का विस्तार अभी हुआ है और फिलहाल अभी कुछ नहीं होगा.

    क्या है मामला



    कांगड़ा जिला के ज्वालामुखी बीजेपी मंडल में सुलगी अंतर्कलह की आग थमने का नाम नहीं ले रही है. इसी मंडल से ताल्लुक रखने वाले बीजेपी प्रदेश संगठन मंत्री पवन राणा और ज्वालामुखी से विधायक और राज्य योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष रमेश धवाला के बीच अंदरूनी सियासी जंग छिड़ी हुई है. हालांकि, रमेश धवाला खुलकर पवन राणा का नाम लेकर ज्वालामुखी बीजेपी मंडल में हस्तक्षेप का आरोप भी लगा चुके हैं. ताजा मामले में ज्वालामुखी बीजेपी मंडल से ताल्लुक रखने वाले धवाला समर्थकों को पार्टी के अहम ओहदों से कार्यमुक्त किया गया है. दरअसल यह कार्रवाई बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने की है.
    इसलिए की गई कार्रवाई

    हटाए गए पदाधिकारियों पर आरोप था कि वो पार्टी लाइन से बाहर जाकर संगठन के खिलाफ बयानबाजियां कर रहे हैं. पार्टी की कार्रवाई पर रमेश धवाला ने नाराजगी जाहिर की और सीएम जयराम ठाकुर से मिले हैं. सीएम ने धवाला को अपने निवास ओक ओवर में बुलाया है. यहां पर दोनों में बात हुई है.

    इन नेताओं पर गिरी थी गाज पार्टी

    विरोधी बयानबाजी पर बीजेपी के संगठनात्मक जिला देहरा के उपाध्यक्ष कुलदीप शर्मा, सचिव जोगिंद्र कौशल, पूर्व मंडल अध्यक्ष ज्वालामुखी एवं विशेष आमंत्रित सदस्य चमन लाल पुंडीर, युवा मोर्चा देहरा के जिला अध्यक्ष नितिन ठाकुर, प्रदेश प्रवक्ता एवं प्रभारी भाजयुमो जिला देहरा राकेश ठाकुर, महिला मोर्चा जिला महामंत्री भावना शर्मा और शहरी केंद्र अध्यक्ष रामस्वरूप शास्त्री को पदमुक्त करने के साथ-साथ ज्वालामुखी मंडल और मोर्चा-प्रकोष्ठ को भंग कर दिया था.

    जनमंच कार्यक्रम से बाहर हुईं कैबिनेट मंत्री

    कोरोना संकट के बीच जनमंच कार्यक्रम का भी सरकार ने घोषणा का कर दी है और मंत्रियों की भी कार्यक्रम में अध्यक्षता के लिए ड्यूटियां लगा दी हैं, लेकिन इस बार कैबिनेट मंत्री सरवीण चौधरी को जनमंच कार्यक्रम से दूर रखा गया है. सभी 12 जिलों में कार्यक्रम की अध्यक्षता के लिए विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष सहित बाकी मंत्रियों की ड्यूटी लगा दी गई है. लेकिन नोटिफिकेशन में सरवीण चौधरी का नाम तक नहीं है. बहरहाल, सियासी गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि कोरोना काल के बाद पहली बार जनमंच कार्यक्रम हो रहा है और उसमें कैबिनेट मंत्री सरवीण चौधरी को शामिल नहीं किया गया है. गौरतलब है कि सरवीण चौधरी भी अंदरखाने नाराज चल रही हैं और पहले भी अपनी नाराजगी जाहिर कर चुकी हैं.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज