सीएम जयराम ने कहा- अनिल शर्मा को बीजेपी से नहीं निकाला

सीएम जयराम ठाकुर ने अनिल शर्मा के निष्कासन की खबर का खंडन करते हुए कह दिया है कि वह अभी भी बीजेपी के सदस्य और विधायक हैं.

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 15, 2019, 4:55 PM IST
सीएम जयराम ने कहा- अनिल शर्मा को बीजेपी से नहीं निकाला
शिमला - सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि अनिल शर्मा अभी भी बीजेपी के सदस्य हैं.
Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 15, 2019, 4:55 PM IST
पूर्व कैबिनेट मंत्री और मंडी सदर से बीजेपी विधायक अनिल शर्मा पर पैदा हुए कन्फयूजन को सीएम जयराम ठाकुर ने दूर कर दिया है. सीएम जयराम ठाकुर ने अनिल शर्मा के निष्कासन की खबर का खंडन करते हुए कह दिया है कि वह अभी भी बीजेपी के सदस्य और विधायक हैं. शिमला में मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि अनिल शर्मा अभी भी बीजेपी के सदस्य हैं और बीजेपी विधायक दल के भी सदस्य हैं. उनके निष्कासन की कोई कार्रवाई नहीं हुई है. गौरतलब है कि बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती की ओर से पहले बयान दिया गया था कि अनिल शर्मा पार्टी से निष्कासित कर दिए गए हैं. इसके बाद सूबे की सियासत में उफान आ गई थी. अनिल शर्मा ने भी कहा था कि उन्हें निष्कासन की कोई सूचना नहीं है. बहरहाल अब इस मुद्दे पर सीएम जयराम ठाकुर ने विराम लगाते हुए साफ किया है कि अनिल शर्मा पार्टी से निष्कासित नहीं किए गए हैं.

बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री पंडित सुखराम शर्मा (Pandit Sukh Ram) के बेटे और मौजूदा भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे अनिल शर्मा (Anil Sharma) को हिमाचल भाजपा से कल यानि बुधवार 14 अगस्त को निष्कासित कर दिए जाने की खबर सामने आई थी. इस खबर की पुष्टि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सत्तपाल सत्ती ने स्वयं की थी. तब सत्तपाल सत्‍ती ने कहा था कि अनिल शर्मा बीजेपी को भाजपा से निष्कासित कर दिया गया है. साथ ही उन्होंने कहा था कि वह बीजेपी के 'अनअटैच्‍ड' एमएलए रहेंगे. मालूम हो कि अनिल शर्मा ने लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान कैबिनेट मंत्री का पद छोड़ दिया था.

... तब अनिल शर्मा ने कहा था कि वह पार्टी के फैसले से आहत हैं

जब अनिल शर्मा को पार्टी से निकाले दिए जाने पर प्रतिक्रिया ली गई थी तब उन्होंने कहा था कि उन्हें मीडिया से इसकी सूचना मिली है. आधिकारिक तौर पर उन्हें इसकी जानकारी नहीं दी गई है. हालांकि अनिल शर्मा ने तब यह भी कहा था कि वह पार्टी के फैसले से आहत हैं, क्योंकि उनके बेटे का कांग्रेस में जाने का फैसला उसके खुद का निर्णय है. बता दें कि अनिल शर्मा के बेटे आश्रय शर्मा को कांग्रेस ने मंडी लोकसभा सीट से टिकट दिया था. इसके बाद ही अनिल शर्मा ने कैबिनेट मंत्री का पद छोड़ दिया था. लेकिन उन्होंने भाजपा नहीं छोड़ी थी. अनिल शर्मा मंडी सदर से भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते हैं.

ये भी पढ़ें - 4 बार दल बदल चुके पूर्व मंत्री अनिल शर्मा अब कहां जाएंगे?

ये भी पढ़ें - निष्कासन पर बोले MLA अनिल शर्मा-जो वर्कर चाहेंगे,अब वही होगा
First published: August 15, 2019, 4:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...