निजी बसों की ह़ड़ताल: CM जयराम बोले-समाज का हर वर्ग परेशानी से जूझ रहा है

सीएम जयराम ठाकुर.

Private Bus strike in Himchal: निजी बस ऑपरेटर 3 मई से अभी तक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं और बसें न चलने से भी प्रदेश सरकार को एक दिन में ही करोड़ों रुपए का नुकसान होता है.

  • Share this:
शिमला. अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर चल रहे निजी बस ऑपरेटरों की हड़ताल का समाधान बैठकर निकालना होगा. यह बात मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने शिमला में एक सवाल के जबाब में कही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि वैश्विक महामारी के संकट के दौर में सभी वर्ग संकट से जूझ रहा है, लेकिन निजी बस ऑपरेटर अपनी कुछ मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे हैं, जिसका नुकसान प्रदेश की जनता को भुगतना पड़ रहा है. हालांकि, प्रदेश सरकार ने सभी बातचीत के रास्ते खोल रखे हैं, इसका समाधान बातचीत से ही हो सकता है. उन्होंने कहा कि समाज का हर वर्ग परेशानी से जूझ रहा है. ऐसे में कोई वर्ग भी ऐसा नहीं है, जिसको परेशानी न हुई हो, ऐसे में सरकार भी भी संकट से जूझ रही है. लेकिन निजी बस ऑपरेटर (Bus Operator) की मांगों को सुलझाया जा रहा है.

हड़ताल नहीं किसी भी समस्या का समाधान
सीएम ने कहा कि हड़ताल किसी भी समस्या का कोई रास्ता नहीं हो सकता, इसलिए बातचीत ही एक ऐसा माध्यम, जिससे समाधन निकल सकता है. बता दें कि निजी बस ऑपरेटर पिछले कई दिनों से टोकन टैक्स और कैपिटल ग्रांट देने की मांग की जा रही है, लेकिन सरकार निजी बस ऑपरेटरों की मांगों पर विचार कर रही है.  निजी बस ऑपरेटर जल्द राहत देने की मांग कर रहे हैं. ऐसे में जब तक बस ऑपरेटरों की मांगें पूरी नहीं होती तब तक हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है.

3 मई से अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं निजी बस ऑपरेटर
बता दें कि निजी बस ऑपरेटर 3 मई से अभी तक अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं और बसें न चलने से भी प्रदेश सरकार को एक दिन में ही करोड़ों रुपए का नुकसान होता है. क्योंकि प्रदेश के निजी बस ऑप्रेटर्ज प्रत्यक्ष रूप से एसआरटी एवं टोकन टैक्स तो सरकार को देते हैं. इसके अतिरिक्त डीजल, स्पेयर पार्ट्स, लुब्रिकैंट्स, टायर, रबड़ तथा अन्य चीजों पर भी अप्रत्यक्ष रूप से कई तरह के टैक्स अदा करते हैं. ऐसे में कोरोना संकट के समय आमदनी न होने पर हड़ताल कर रहे हैं.जिसका खामियाजा जनता को भुक्तना पड़ रहा है. हालांकि, बीते कल प्रदेश के कुछ जिलों में प्राइवेट बसें चली हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.