करगिल युद्ध के शहीदों को सीएम ने किया याद, कहा- हमने पाकिस्तान को दिया मुंहतोड़ जवाब

करगिल युद्ध में विजय के 20 साल पूर्ण होने पर देशभर में विजय दिवस मनाया जा रहा है. इस अवसर पर सीएम जयराम ठाकुर ने करगिल युद्ध के शहीदों को याद किया.

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 26, 2019, 5:44 PM IST
करगिल युद्ध के शहीदों को सीएम ने किया याद, कहा- हमने पाकिस्तान को दिया मुंहतोड़ जवाब
शिमला - सीएम ने देश की रक्षा के लिए अपनी जान की कुर्बानी देने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी.
Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 26, 2019, 5:44 PM IST
करगिल युद्ध में विजय के 20 साल पूर्ण होने पर देशभर में विजय दिवस मनाया जा रहा है. इस अवसर पर सीएम जयराम ठाकुर ने करगिल युद्ध के शहीदों को याद किया. उन्होंने शिमला में हिमाचल के जवानों के योगदान को याद करते हुए कहा कि भारत ने पाकिस्तान के नापाक इरादों का मुंहतोड़ जवाब दिया. उन्होंने कहा कि हिमाचल के 52 जवानों ने देश की रक्षा के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी.

सीएम ने कहा कि देश के लिए वीरगति को प्राप्त हुए जवानों के परिवारों में बेटे की हुई कमी को पूरी नहीं की जा सकती है, लेकिन सरकार ने अधिकतर जवानों के परिवारों को सरकारी नौकरी दी है. ऐसे परिवारों को स्वाबलंबी बनाने की सरकार ने पूरी कोशिश भी की है. उन्होंने कहा कि करगिल युद्ध के दौरान हिमाचल के जवानों का महत्वपूर्ण योगदान रहा.

दो परमवीर चक्र हिमाचल को मिले

करगिल विजय दिवस - Kargil Vijya Divas
चार परमवीर चक्र में से दो परमवीर चक्र हिमाचल प्रदेश को मिले.


सीएम ने देश की रक्षा के लिए अपनी जान की कुर्बानी देने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी. उन्होंने कहा कि जवानों ने कुर्बानी देते हुए देश के लिए विजय हासिल की. उन्होंने कहा कि जब करगिल युद्ध शुरू हुआ तब देश में एक अलग तरह का माहौल बन गया. वह माहौल देश भक्ति का और देश की एकजुटता का था. उन्होंने कहा कि हमारे सैनिकों ने पाकिस्तान के नापाक इरादों का मुंहतोड़ जवाब दिया गया. भले ही हिमाचल देश का एक छोटा प्रदेश है मगर यहां के 52 जवानों ने अपनी जान की कुर्बानी दी.  सीएम ने कहा कि करगिल युद्ध में हिमाचल का योगदान बड़ा रहा. चार परमवीर चक्र में से दो परमवीर चक्र हिमाचल प्रदेश को मिले. उन्होंने कहा कि हिमाचल के सैनिकों का योगदान बहुत सराहनीय और बहुत महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि इसे पूरा देश स्वीकार भी करता है.

शहीद के परिजनों को सरकारी मदद 

जयराम ने कहा कि शहीद हुए सैनिकों के परिवारों के परिजनों को उस वक्त सराकारी क्षेत्र में नौकरी देकर, गैस का कनेक्शन, पेट्रोलपम्प आदि द्वारा मदद करने की कोशिश हुई. तब हर एक परिवार को आर्थिक रूप से भी मदद की गई. इसके बाद सीएम ने कहा कि बहुत सारे ऐसे परिवारों से आज जब वह मिलते हैं तब आज भी वह उनकी उस कमी को पूरा नहीं कर सकते हैं- उनका बेटा देश की रक्षा में शहीद हो गया. सीएम ने कहा कि इसके बावजूद जिनके परिवार से शहादत हुई है उनके स्वावलंबन के लिए, उन्हें आर्थिक दृष्टि से मदद की गई है.
Loading...

ये भी पढ़ें - करगिल विजय दिवस: ये हैं पाक सैनिकों से मिले हथियार और सामान

ये भी देखें - कारगिल में लड़ने वाले वो जवान जो तिरंगे में लिपटकर घर पहुंचे

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 26, 2019, 5:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...