भड़काऊ भाषण मामला: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के खिलाफ शिमला में शिकायत दर्ज

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर. (File Photo)
केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर. (File Photo)

Hate Speech Issue: मामले पर जब SP ओमापति जम्वाल से फोन पर संपर्क किया गया तो उन्होंने शिकायत पत्र मिलने की पुष्टि की है, लेकिन कैमरे पर एसपी ने कुछ कहने से इनकार कर दिया.

  • Share this:
शिमला. दिल्ली विधासभा चुनाव-2020 के दौरान भड़काऊ भाषण (Hate Speech) देने के मामले पर केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. इस मामले को लेकर मानवाधिकार कार्यकर्ता सुनील मोहन जेटली ने छोटा शिमला थाने (Chota Shimla Police Station) में शिकायत दी. उन्होंने जीरो एफआईआर (Zero FIR) दर्ज करने की शिकायत दर्ज करवाई है. शिमला के एसपी (SP Shimla) ओमापति जम्बाल ने फोन पर शिकायत मिलने की पुष्टि की है.

हाईकोर्ट के आदेशों की कॉपी भी लगाई
जानकारी के अनुसार, शिमला के छोटा शिमला थाने में यह शिकायत दी है और शिकायत पत्र के साथ दिल्ली हाईकोर्ट के आदेशों की कॉपी भी लगाई.शिकायतकर्ता का कहना है कि दिल्ली दंगो में 45 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है, लेकिन जो लोग इसके लिए जिम्मेवार हैं, उन पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है. सुनील मोहन जेटली ने News-18 हिमाचल से बातचीत में कहा कि अनुराग ठाकुर काफी लोकप्रिय हैं. एक रोल मॉडल हैं. उनके भाषण का युवाओं में खास प्रभाव पड़ा.

दंगा प्रभावित क्षेत्र में पहुंचा था- शिकायतकर्ता
बता दें कि दिल्ली चुनाव के दौरान अनुराग ठाकुर ने रिठाला में एक चुनावी सभा में नारे लगवाए थे. दिल्ली हाईकोर्ट ने उस पर सख्त टिप्पणी करते हुए भड़काऊ भाषण देने वाले नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज करने के आदेश दिए थे. शिकायतकर्ता का कहना है कि दिल्ली में दंगों के दौरान वह भी रास्ता भटक कर एक दंगा प्रभावित क्षेत्र में पहुंच गए थे. उस खौफनाक मंजर को देखने के बाद से ही वह परेशान हो गए थे. इनका कहना है कि वह चाहते हैं कि जो इसके लिए दोषी हैं उन पर कार्रवाई होनी चाहिए, इसलिए यह जीरो FIR की शिकायत छोटा शिमला थाने में दी है.



Anurag Thakur Hate Speech
शिकायकर्ता ने पुलिस को जीरो एफआईआर दर्ज करने की क़़ॉपी मांगी है.


सुनील मोहन जेटली का कहना है कि पुलिस के पास ऐसा कोई अधिकार नहीं है कि वह यह FIR दर्ज करने से इनकार कर सके. पुलिस की जानकारी के लिए गृह मंत्रालय के उन आदेशों की कॉपी भी लगाई गई, जिनमें यह आदेश है कि संज्ञेय अपराध के मामले पर पुलिस FIR दर्ज करने के लिए बाध्य है.

यह बोले SP शिमला
मामले पर जब SP ओमापति जम्वाल से फोन पर संपर्क किया गया तो उन्होंने शिकायत पत्र मिलने की पुष्टि की है, लेकिन कैमरे पर एसपी ने कुछ कहने से इनकार कर दिया.

ये भी पढ़ें: VIDEO: Facebook पर लिखा ‘गुडबाय लाइफ’, सुसाइड प्वाइंट से खाई में कूदा युवक

हिमाचल सरकार ने 2 साल में लिया 8821 करोड़ कर्ज, पुराना चुकाने को उठाया नया लोन

शिमला के नेरवा में 3 दिन में कुत्ते ने 28 लोगों को काटा, 3 महिलाएं IGMC रेफर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज