वायरल ऑडियो मामला: आरोपी पूर्व निदेशक को किस राजनेता का संरक्षण: कांग्रेस
Shimla News in Hindi

वायरल ऑडियो मामला: आरोपी पूर्व निदेशक को किस राजनेता का संरक्षण: कांग्रेस
हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव रजनीश किमटा.

रजनीश किमटा ने मुख्यमंत्री के उस ब्यान पर भी कड़ी आपत्ति जताई है, जिसमें उन्होंने हिमाचल प्रदेश को कोरोना क्वारंटाइन डेस्टिनेशन बनाने की बात कही थी.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
शिमला. पांच लाख के लेनदेने से जुड़े वायरल ऑडियो (Viral Audio) मामले में हिमाचल स्वास्थ्य विभाग के पूर्व निदेशक (Director) अजय गुप्ता की गिरफ्तार के बाद अब विपक्ष मौजूदा सरकार पर हमलावर हो गया है.

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस (Congress) कमेटी के महासचिव रजनीश किमटा ने सरकार पर हमला करते हुए सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि मामले के आरोपी पूर्व निदेशक को किस नेता का संरक्षण प्राप्त है. उन्होंने कहा कि एक और कोरोना महामारी से लड़ने के लिए दान दे रहे हैं, वहीं, स्वास्थ्य विभाग में घोटाले हो रहे हैं. महामारी के इस विकट दौर में जब स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख ही सुरक्षा उपकरणों की आपूर्ति के एवज में सीधे घूस (Bribe) खा रहे हो तो ऐसे में मुख्यमंत्री को अपनी जिम्मेवारी और जबावदेही से नहीं बचना चाहिए. आरोपी को किस राजनेता का संरक्षण प्राप्त है, इस बात को जल्द सार्वजानिक किया जाना चाहिए और मामले की निष्पक्ष व उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए.

बढ़ती कोरोना मरीजों की संख्या पर चिंता
हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव रजनीश किमटा ने राज्य में लगातार बढ़ती कोरोना मरीजों की संख्या पर चिंता व्यक्त करते हुए आरोप लगाया है कि सरकार महामारी के इस दौर में भी लापरवाह नजर आ रही है, राज्य के प्रवेश द्वारों में आवागमन करने वाले लोगों की सही तरीके से स्वास्थ्य जांच न करना भी कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों का एक मुख्य कारण है.



कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार के सभी उपाय भगवान भरोसे


किमटा ने कहा कि रोजाना हजारों कमर्शियल वाहन एक राज्य से दूसरे राज्य में आ-जा रहे हैं. मगर इन वाहनों के चालकों और परिचालकों की किसी भी प्रकार की कोई सैंपलिंग या टेस्टिंग नहीं की जा रही है, जो की चिंता का विषय है. कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार के सभी उपाय भगवान भरोसे चल रहे हैं. क्योंकि चिकित्सकों के पास न तो पर्याप्त पीपीई किट व सुरक्षा उपकरण है और न ही अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं की पर्याप्त उपलब्धता है.

प्रवेश द्वार में सैंपलिंग और ट्रेवल हिस्ट्री
रजनीश किमटा ने कहा कि प्रदेश के सभी प्रवेश द्वारों पर आवागमन करने वाले हर एक शख्स की सैंपलिंग होनी चाहिए और सभी की ट्रेवल हिस्ट्री नोट करनी चाहिए. इन मामले में किसी भी प्रकार की कोई लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए। क्योंकि अन्य राज्यों से आवश्यक सामग्री लेकर प्रदेश में आने वाले वाहनों के चालक और परिचालक भी कोरोना कैरियर हो सकते हैं. दूसरे राज्य से हिमाचल की सीमा में प्रवेश करने वाले हर एक इंसान की सैंपलिंग और टेस्टिंग करने के साथ उसका यात्रा विवरण दर्ज करना अनिवार्य किया जाना चाहिए.

कोरोना डेस्टिनेशन न बनाये सीएम
रजनीश किमटा ने मुख्यमंत्री के उस ब्यान पर भी कड़ी आपत्ति जताई है, जिसमें उन्होंने हिमाचल प्रदेश को कोरोना क्वारंटाइन डेस्टिनेशन बनाने की बात कही थी. उन्होंने कहा कि इस प्रकार का कोई भी निर्णय प्रदेश के हित में नहीं होगा. ऐसा करने से प्रदेश को कोरोना महामारी के प्रकोप से नहीं बचाया जा सकेगा. किमटा ने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर सरकारी व्यवस्थाओं के आगे बेवस नजर आ रहे है.

ये भी पढ़ें: COVID-19: मंडी में कोरोना मरीज के अंतिम संस्कार का विरोध, सड़क पर रखे पत्थर

हिमाचल के मैदानों इलाकों में गर्मी से लोग बेहाल, पहाड़ों में भी छूटे पसीने
First published: May 26, 2020, 11:00 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading