Himachal Politics: कांग्रेस MLA आशा कुमारी बोलीं- 'हिमाचल में वीरभद्र सिंह के अलावा और कोई नेता नहीं'

डलहौजी से कांग्रेस विधायक आशा कुमारी.

डलहौजी से कांग्रेस विधायक आशा कुमारी.

Himachal Assembly Elections 2022: हिमाचल कांग्रेस में गुटबाजी फिर देखने को मिली है. वीरभद्र गुट के नेता एकजुट हुए हैं. इनमें मुकेश अग्निहोत्री, आशा कुमारी, धर्मशाला से सुधीर शर्मा एक मंच पर जुटे थे. हैरानी यह कि वीरभद्र के धुर विरोधी कौल सिंह ठाकुर भी साथ नजर आए.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल में विधानसभा चुनाव के 2022 के रण के लिए सियासी तैयारियां शुरू हो गई हैं. इस रण से पहले हिमाचल में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के भीतर ही सियासी चौपड़ पर पांसे और दांव चलना चलना शुरू हो गए हैं. नेताओं की गुपचुप बैठकें हो रहीं हैं और ताल ठोंकी जा रही है. इस बीच 2022 में मुख्यमंत्री की कुर्सी के दावेदारों को लेकर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं.

हिमाचल की सियासत के प्रमुख ध्रुव वीरभद्र सिंह इन दिनों स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं. सियासी होड़ और मुख्यमंत्री की कुर्सी के दावेदारों की दौड़ में इस वक्त सबसे आगे आशा कुमारी का नाम लिया तो जा रहा है, लेकिन आशा कुमारी ने खुद बड़ा ऐलान करते हुए खुद को इस दौड़ से बाहर बताया है और वीरभद्र सिंह को ही मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित किया है.


क्या कहती हैं आशा
News 18 के साथ बातचीत में आशा कुमारी ने कहा कि “हिमाचल में वीरभद्र सिंह के अलावा और कोई नाम नहीं है और कांग्रेस ने नेता एक ही है...और वो है वीरभद्र सिंह.’” साथ ही अपने विरोधियों को इशारों इशारों में बता दिया है कि उनकी दाल नहीं गलने वाली. आशा कुमारी ने कोरोना को लेकर हिमाचल की भाजपानीत जयराम सरकार को भी जमकर घेरा.

कांग्रेस में गुटबाजी

हिमाचल कांग्रेस में गुटबाजी एक बार फिर से देखने को मिली है. यहां पर वीरभद्र गुट के नेता एकजुट हुए हैं. इनमें मुकेश अग्निहोत्री, आशा कुमारी, धर्मशाला से सुधीर शर्मा एक मंच पर जुटे थे. हालांकि, हैरानी कि बात है कि वीरभद्र के धुर विरोधी मंडी से कौल सिंह ठाकुर भी इनके साथ नजर आए थे. जीएस बाली की सक्रियता के चलते यह धड़ा भी सक्रिय हुआ है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज