लाइव टीवी

BJP सरकार केवल नाटी गाओ और खिचड़ी खाओ तक सीमित: विक्रमादित्य सिंह

News18 Himachal Pradesh
Updated: January 16, 2020, 2:09 PM IST
BJP सरकार केवल नाटी गाओ और खिचड़ी खाओ तक सीमित: विक्रमादित्य सिंह
कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह. (File Photo)

Vikramaditya Singh Attacks on Himachal Govt: विक्रमादित्य सिंह ने प्रदेश में हुई बर्फबारी से हो रही लोगों की समस्याओं पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि इनके नेता शिमला में आराम से अपने घरों में बैठे हैं. सत्ता का सुख भोग रहे नेताओं को लोगों की समस्याओं से कुछ लेना-देना नहीं हैं.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (Virbhadra Singh) के बेटे और कांग्रेस (Congress) विधायक विक्रमादित्य सिंह (Vikramaditya Singh) ने भाजपा (BJP) के नेताओं पर आरोप लगाया है कि वह हमेशा ही झूठ बोल कर मुकर जाते हैं. लोगों को गुमराह करना इनकी फितरत है. उन्होंने कहा कि सरकार केवल नाटी गाओ और खिचड़ी खाओ तक ही सीमित रह गई लगती है.

सूरत नेगी पर साधा निशाना
विक्रमादित्य सिंह ने वन निगम के उपाध्यक्ष सूरत नेगी पर हमला करते हुए कहा है कि अंध विश्वास भी खतरनाक है और राजनीति में अंधभक्त होना खतरनाक है. उन्होंने कहा कि सूरत नेगी उम्र में उनसे बड़े हैं, वह उनका सम्मान भी करते हैं. उन्होंने जो बातें उनके विषय में कही हैं, वह दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने स्पष्ट किया है कि वह और उनकें पिता वीरभद्र सिंह कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ने के बावजूद हिंदी और अपनी भाषा का पूरा ज्ञान रखते हैं. इस बारे न तो उनसे और न ही भाजपा के किसी भी नेता से उन्हें किसी प्रमाण पत्र की कोई आवश्कता है.

प्रदेश के विकास की ओर ध्यान दें

विक्रमादित्य सिंह ने कहा है कि भाजपा के नेता समय-समय पर ऐसी बातें और बयान दागते हैं, मानो जैसे सृष्टि इन्हीं के नेताओं ने रची हो. उन्होंने कहा कि नेगी ने भी प्रदेश में ‘अच्छी बर्फबारी’ के लिए अति उत्साह में ऐसा बयान सोशल मीडिया में जारी कर अपनी अंधभक्ति को दर्शाया है. इसपर उन्होंने अपनी एक सामान्य प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि उन्हें प्रदेश के विकास की ओर ध्यान देना चाहिए.

विक्रमादित्य सिंह ने कहा है कि वह एक चुने हुए विधायक हैं. प्रदेश के साथ-साथ अपने निर्वाचन क्षेत्र की समस्याओं के निराकरण की उनकी अहम जिम्मेदारी है. उन्होंने कहा है कि एक विधायक के नाते समस्याओं के निराकरण के लिए मुख्यमंत्री के साथ साथ प्रदेश सरकार के मंत्रियों से मिलना उनका दायित्व भी है और संवैधानिक अधिकार भी है. इसे अगर वह चापलूसी का नाम देते है तो यह उनकी मानसकिता है.

बर्फबारी से आम जन जीवन बुरी तरह प्रभावितविक्रमादित्य सिंह ने प्रदेश में हुई बर्फबारी से हो रही लोगों की समस्याओं पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि इनके नेता शिमला में आराम से अपने घरों में बैठे हैं. सत्ता का सुख भोग रहे इन नेताओं को आम लोगों को आ रही समस्याओं से कुछ लेना देना नहीं हैं. शिमला से ऊपरी क्षेत्रों में बर्फबारी से आम जन जीवन बुरी तरह प्रभावित है. सड़कें बंद हैं. बिजली आपूर्ति ठप पड़ी है. छह दिनों के बाद भी इन की बहाली के कोई पुख्ता कदम नहीं उठाये गए हैं. ऐसे में सरकार के सभी आपदा प्रबंधन की पोल खुल गई है. सरकार पूरी तरह विफल साबित हो रही है. उन्होंने कहा कि सरकार केवल नाटी गाओ और खिचड़ी खाओ तक ही सीमित रह गई लगती है.

ये भी पढ़ें: विक्रमादित्य सिंह V/S सूरत नेगी: ‘BJP में बढ़ रहा है अंधभक्तों का कुनबा‘

बर्फबारी पर Viral बयान पर BJP नेता बोले-जब विक्रमादित्य रोटी को तोती बोलते...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 2:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर