झंडी विवाद: कांग्रेस MLA विक्रमादित्य सिंह बोले-विधायकों को निशाना बनाना सही नहीं

विवाद में पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (Virbhadra Sing) के बेटे और कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह (Vikramaditiya Singh) भी कूद पड़े हैं.

विवाद में पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (Virbhadra Sing) के बेटे और कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह (Vikramaditiya Singh) भी कूद पड़े हैं.

विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि मुख्य सचिव, अतिरिक्त मुख्य सचिव और उपायुक्तों को भी इसी पैमाने पर देखे जाने की जरूरत है. झंडी सब लोगों के लिए खत्म होनी चाहिए. जजों की गाड़ियों में भी तो फ्लैग होते हैं. केवल विधायकों को ही निशाना बनाना सही नहीं है. दोहरे मापदंड न हों.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में विधायकों की गाड़ियों पर झंडी (Flag) लगाने को कैबिनेट ने मंजूरी दी है, लेकिन अब यह मामला तूल पकड़ रहा है. लगातार कांग्रेस और भाजपा नेताओं की इस मामले में प्रतिक्रिया आ रही है. अब इस विवाद में पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (Virbhadra Sing) के बेटे और कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह (Vikramaditiya Singh) भी कूद पड़े हैं. उन्होंने मामले में सरकार का समर्थन किया.

शिमला ग्रामीण के कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि विधायकों के लिए ही क्यों, अधिकारियों के लिए भी झंडी खत्म की जाए? विधायक विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि विधायकों को हर बार सॉफ्ट टारगेट बनाया जाता है. भाजपा और कांग्रेस के विधायकों ने यह मांग रखी थी. विधायकों ने पहले बात रखी है, पहले कुछ और बात रखी, आज कुछ और कह रहे हैं. अब इस बारे में अलग राय आ रही है. हालांकि, विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि वह अपनी बात करें तो व्यक्तिगत तौर पर उन्हें झंडी की जरूरत नहीं है. जब वेतन की बात आती है तो भी विधायकों को टारगेट किया जाता है.

और क्या बोले विक्रमादित्य सिंह

विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि मुख्य सचिव, अतिरिक्त मुख्य सचिव और उपायुक्तों को भी इसी पैमाने पर देखे जाने की जरूरत है. झंडी सब लोगों के लिए खत्म होनी चाहिए. जजों की गाड़ियों में भी तो फ्लैग होते हैं. केवल विधायकों को ही निशाना बनाना सही नहीं है. दोहरे मापदंड न हों.
कांग्रेस विधायक के बयान पर किरकिरी

उधर, कुल्लू के कांग्रेस विधायक सुंदर ठाकुर ने भी मामले में सरकार का समर्थन किया था और साथ ही कहा था कि लंबे रूटस पर जाते समय ट्रक चालक पास नहीं देते हैं. ऐसे में परेशानी होती है. इस बयान पर सोशल मीडिया पर जमकर खिल्ली उड़ी है. मामले को लेकर लगातार प्रतिक्रियाएं देखने को मिली हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज