हिमाचल विधानसभा का मॉनसून सत्र: SC-ST आरक्षण मुद्दे पर कांग्रेस का वॉकआउट
Shimla News in Hindi

हिमाचल विधानसभा का मॉनसून सत्र: SC-ST आरक्षण मुद्दे पर कांग्रेस का वॉकआउट
हिमाचल विधानसभा के मॉनसून सत्र से कांग्रेस ने किया वॉकआउट.

हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम एवं सदन के सबसे वरिष्ठ सदस्य वीरभद्र सिंह भी गुरुवार को सदन में मौजूद रहे. कोरोना संकट के बावजूद सदन की कार्यवाही में पूर्व सीएम ने शिरकत की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 12:50 PM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मॉनसून सत्र (Monsoon) में शुरुआत से ही हंगामा देखने को मिल रहा है. सत्र के नौवें दिन भी सदन की कार्यवाही की शुरुआत हंगामा के साथ हुई. गुरुवार को सदन की कार्यवाही शुरू होते ही किन्नौर के कांग्रेस (Congress) विधायक जगत सिंह नेगी ने अनुसूचित जातियों और जनजातियों को नौकरियों में आरक्षण न मिलने, शोषण होने, एससी, एसटी कंपोनेंट का पैसा खर्च न होने के विषय पर नियम 67 में चर्चा मांगी थी. लेकिन स्पीकर ने इससे इंकार कर दिया.

सत्तापक्ष और विपक्ष में नोकझोंक
इसी बात पर गुस्साए कांग्रेस सदस्य सदन में हंगामा करते नजर आए और सत्तापक्ष और विपक्ष में नोकझोंक हुई. हंगामा बढ़ता गया तो विपक्ष नारेबाजी करते हुए सदन से बाहर चला गया. हालांकि, बाद में कांग्रेस विधायक वापस सदन में लौट आए.

सरकार नहीं करना चाहती चर्चा
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और संसदीय कार्य मंत्री ने इसकी निंदा की. बाद में प्रश्नकाल साढ़े 11 बजे ही शुरू हो पाया और विपक्ष की गैरहाजिरी में ही यह शुरू हुआ. कांग्रेस विधायक जगत सिंह नेगी ने कहा कि सदन में एक तिहाई विधायक एससी और एसटी वर्ग से हैं और इसलिए नियम 67 में सारा काम छोड़कर चर्चा की जाए, दलितों और आदिवासियों के बारे में सरकार चर्चा नहीं करना चाहती है. सभी दलित और जनजातीय लोगों का शोषण हो रहा है. स्कॉलरशिप में भी घोटाला हुआ है.



सीएम वीरभद्र सिंह भी पहुंचे
हिमाचल प्रदेश के पूर्व सीएम एवं सदन के सबसे वरिष्ठ सदस्य वीरभद्र सिंह भी गुरुवार को सदन में मौजूद रहे. कोरोना संकट के बावजूद सदन की कार्यवाही में पूर्व सीएम ने शिरकत की. उन्होंने थर्मल स्कैनिंगग के बाद सदन में प्रवेश किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज