COVID-19: ज्यादातर मौतें कोरोना से नहीं, दूसरी बीमारियों-अस्पताल पहुंचाने में देरी से हुई: हिमाचल स्वास्थ विभाग

कोरोना बुलेटिन.
कोरोना बुलेटिन.

Corona virus in Himachal: हिमाचल में अब तक 3 लाख 8 हजार से ज्यादा कोरोना टेस्ट हो चुके हैं, जिसमें 2 लाख 92 हजार से ज्यादा लोग नेगेटिव आए हैं और 16 हजार से ज्यादा लोग पॉजिटिव हैं. इनमें 3156 लोग एक्टिव हैं जबकि 12 हजार 633 ठीक हो चुके हैं. 224 लोगों की मौत हो चुकी है,

  • Share this:
शिमला. हिमाचल में कोरोना (Corona virus) के बढ़ते मामलों के बीच हर रोज मौत का आंकड़ा भी बढ़ रहा है, मौत के बढ़ते आंकड़ों ने जहां सरकार को चिंता में डाल दिया है तो वहीं लोग भी चिंतित हो उठे हैं. मौत के बढ़ते मामलों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है. हिमाचल (Himachal Pradesh) में ज्यादातर लोग ऐसे हैं, जो कोरोना की वजह से नहीं, बल्कि दूसरी बीमारियों से मौत (Death) के आगोश में जा रहे हैं. इसमें लोगों की लापरवाही भी सामने आई है.

क्या कहता है स्वास्थ्य विभाग

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में बहुत सारे ऐसे लोगों की मौत हुई है, जो अंतिम समय में अस्पताल पहुंचे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, 22 लोग ऐसे थे, जिनकी मौत अस्पताल पहुंचने से पहले ही हो गई. बाद में जांच में पता चला कि उन्हें कोरोना भी था. इसी तरह 95 ऐसे लोग हैं, जिनकी मृत्यु अस्पताल लाने के 24 घंटे के भीतर हुई है, विशेष सचिव स्वास्थ्य एवं नेशनल हेल्थ मिशन के एमडी निपुन जिंदल ने इसकी पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि मौत की वजह कोरोना को हल्के में लेना रहा है. स्वास्थ्य विभाग ने एडवाइजरी भी जारी की है कि कोरोना के शुरूआती लक्षणों को हल्के में बिलकुल भी न लें. यह घातक हो सकता है. कुछ लोग कोरोना के लक्षणों को देखते हुए खुद ही दवाइयां लेना शुरू कर देते हैं. खासतौर पर जो किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित हों, वो तुरंत डॉक्टरी सलाह लें और बताई गई ट्रीटमेंट ही लें. गौरतलब है कि हिमाचल में अब तक कोरोना से 219 लोगों की मौत हुई है.



कोरोना रोकने के तीन स्तंभ, वैक्सीन होगा चौथा स्तंभ
स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक कोरोना रोकने के अभी केवल तीन स्तंभ ही है, जिसमें मुंह पर मॉस्क लगाना, सोशल डिस्टेसिंग और बार-बार हाथ धोना। अगर वैक्सीन आती है तो वो चौथा स्तंभ होगा। विशेष सचिव स्वास्थ्य निपुन जिंदल के मुताबिक, अगर कोई मुंह पर मास्क लगाता है तो उससे सामने वाले व्यक्ति या खुद के संक्रमित होने के चांस 10 प्रतिशत तक रह जाते हैं. इससे ट्रांसमिशन का खतरा कम हो जाता है.



अभी नहीं आया कोरोना का पीक, हेल्थ केयर वर्कर के एंटी बॉडीज टेस्ट शुरू 

स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि अभी कोरोना का पीक नहीं आया है. क्योंकि प्रदेश में मामले बढ़ रहे हैं. अगर मामले बढ़कर कम होना शुरू हो जाते हैं तो उस स्थिति में ही यह कहना उचित होगा कि पीक आया था. ऐसे में अभी स्वास्थ्य विभाग भी इस बात को लेकर स्पष्ट नहीं है कि पीक आ चुका है. विभागीय अधिकारियों के मुताबिक पीक की पूरी जानकारी लॉंग टर्म ट्रेंड के बाद की कही जा सकती है, लेकिन इस बीच स्वास्थ्य विभाग ने फ्रंट लाइन वर्कर के एंटी बॉडीज टेस्ट शुरू कर दिए हैं. सबसे पहले हेल्थ केयर वर्कर के टेस्ट होंगे. यह केवल स्टडी के लिए किया जा रहा है, क्योंकि इस टेस्ट का कोई अन्य उपयोग नहीं होता है. इससे केवल इतना पता लगाया जा सकता है कि कितने फ्रंट लाइन वर्कर को कोरोना हो चुका है.

हिमाचल में अब तक 3 लाख लोगों के कोरोना टेस्ट

हिमाचल में अब तक 3 लाख 8 हजार से ज्यादा कोरोना टेस्ट हो चुके हैं, जिसमें 2 लाख 92 हजार  से ज्यादा लोग नेगेटिव आए हैं और 16 हजार से ज्यादा लोग पॉजिटिव हैं. इनमें 3156 लोग एक्टिव हैं जबकि 12 हजार 633 ठीक हो चुके हैं. 224 लोगों की मौत हो चुकी है,
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज