हिमाचल में कोरोना से अब तक की सबसे अधिक मौतें, 67 संक्रमितों की गई जान

शनिवार को कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई है.

Corona virus in Himachal: मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि संबंधित जिले के उपायुक्त यह सुनिश्चित करें कि कोविड-19 के मरीजों के शोक संतप्त परिजनों को मृतक के अंतिम संस्कार में जिला प्रशासन का पूरा सहयोग व सहायता मिले.

  • Share this:
    शिमला. हिमाचल प्रदेश में चौबीश घंटे में अब तक की सबसे अधिक मौतें हुई हैं. शुक्रवार को 67 और कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) मरीजों की मौत हो गई है. कांगड़ा जिले में रिकॉर्ड 32 संक्रमितों की मौत हुई है. वहीं, हमीरपुर पांच, मंडी आठ, ऊना छह, शिमला (Shimla) पांच, सोलन चार, कुल्लू तीन, सिरमौर दो और चंबा में एक संक्रमित ने दम तोड़ा है. शिमला (Shimla) के ठियोग क्षेत्र में एक माह की कोरोना पॉजिटिव बच्ची की भी मौत हो गई.

    वहीं, 24 घंटे में 3044 नए कोरोना मरीज मिले हैं. इनमें से कांगड़ा 724, सोलन 313, बिलासपुर 343, चंबा 249, मंडी 299, शिमला 180, ऊना 265, हमीरपुर 264, सिरमौर 299, किन्नौर 27, कुल्लू 62 और लाहौल-स्पीति में 19 नए मामले आए हैं. कुल्लू जेल में दो कैदी भी पॉजिटिव आए हैं. बिलासपुर जिले में 62 बच्चे भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. हालांकि, पिछले दिनों के मुकाबले आज नए मामलों में कमी आई है. प्रदेश में रोज जहां चार हजार नए मामले आ रहे थे, वहीं शुक्रवार को केसों में करीब एक हजार की कमी दर्ज की गई है. हालांकि, छूट्टी के चलते टेस्टिंग कम की गई है. इसी वजह से मामले कम आए हैं.

    कहां कितने सक्रिय केस

    हिमाचल प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 153717 पहुंच गया है. इनमें से अब तक 111878 संक्रमित ठीक हो चुके हैं. 39623 सक्रिय कोरोना मामले हैं और 2185 संक्रमितों की मौत हुई है. बिलासपुर में कोरोना के सक्रिय केसों की संख्या 3078, चंबा 2309, हमीरपुर 2884, कांगड़ा 12272 , किन्नौर 375, कुल्लू 941, लाहौल-स्पीति 268, मंडी 4375, शिमला 3394, सिरमौर 3206, सोलन 3932 और ऊना जिले में 2589 पहुंच गई है. बीते 24 घंटों में 3362 संक्रमित ठीक हुए हैं. इस दौरान कोरोना की जांच के लिए 11388 लोगों के सैंपल लिए गए.

    सीएम ने दिया बयान

    मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि संबंधित जिले के उपायुक्त यह सुनिश्चित करें कि कोविड-19 के मरीजों के शोक संतप्त परिजनों को मृतक के अंतिम संस्कार में जिला प्रशासन का पूरा सहयोग व सहायता मिले. उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में संबंधित नगर आयुक्त, शहरी स्थानीय निकायों के कार्यकारी अधिकारी तथा सचिव नोडल अधिकारी होंगे. इन अधिकारियों को अस्पतालों से समन्वय बनाकर कार्य करना चाहिए तथा मृतक व्यक्ति के अन्तिम संस्कार के लिए पीपीई किट, डेड बॉडी बैग, डिस्इन्फेक्टेंट्स, सेनिटाइजर, वेस्ट डिस्पोजेबल बैग आदि संसाधन प्रदान करने चाहिए.