अपना शहर चुनें

States

हिमाचल में सर्दियों में और बढ़ेगी कोरोना की चुनौती, कोल्ड चेन की मैपिंग शुरू

हिमाचल में कोरोना वायरस.
हिमाचल में कोरोना वायरस.

Corona Virus in Himachal: पीएम मोदी के निर्देशों के बाद हिमाचल में कोरोना वैक्सीन के लिए कोल्ड चेन की मैपिंग शुरू हो गई है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल के कोरोना (Corona Virus) के नए मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है. हालात यह हैं कि हिमाचल (Himachal Pradesh) की पॉजिटिविटी दर देश में सबसे ज्यादा हो गई है. इन हालात को देखते हुए केंद्र की एक टीम भी इन दिनों हिमाचल के दौरे पर पहुंची है और कोरोना से निपटने के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी भी जुटा रही है, लेकिन कोरोना (Corona Virus) के बढ़ते मामलों ने प्रदेश को चिंता में डाल दिया है. इसके साथ ही नई चिंता सर्दियों को लेकर भी खड़ी हो गई है.

क्या रहेगी चुनौती

दरअसल सर्दियों में हिमाचल के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी होती है, जिसमें राजधानी शिमला भी शामिल है. ऐसे में सड़कों के अवरूद्ध होने की स्थिति में कोरोना मरीजों को अस्पताल पहुंचाना बड़ी चुनौती रहने वाला है. साथ ही लोगों को भी अस्पताल आने में दिक्कतें झेलनी पड़ सकती हैं. हालांकि, सचिव स्वास्थ्य अमिताभ अवस्थी ने कहा कि संबंधित विभाग इस दिशा में काम कर रहे हैं, ताकि सड़कें कम से कम बंद रहे. इसके अलावा एंबुलेंस सेवाओं के जरिए भी मरीजों को आसानी से अस्पताल लाया जा सके. इसके अलावा कुछेक ऐसे अस्पताल भी निर्धारित किए जाएंगे जहां पर लोग अपनी सुविधाओं से आसानी से पहुंच सकें. शिमला जिला में भी रोहड़ू और रामपुर में ऐसे प्रबंध किए जा रहे हैं.



हिमाचल में कोरोना से डेथ रेट नेशनल एवरेज से ज्यादा
हिमाचल कोरोना पॉजिटिविटी रेट में भी देश में सबसे ऊपर है तो वहीं डेथ रेट भी नेशनल एवरेज से ज्यादा हो गया है. राष्ट्रीय दर 1 दशमलव 49 प्रतिशत है जबकि हिमाचल की दर 1 दशमलव 60 है. रोजाना 12 से ज्यादा लोगों की मौतें हो रही है। जो कुछ दिन पूर्व 22 तक पहुंच गई थी. रोजाना कोरोना के नए मामले 600 से 900 के बीच आ रहे हैं. बढ़ते मामलों को देखते हुए साफ जाहिर हो रहा है कि हिमाचल में कोरोना पीक पर आ गया है. सचिव स्वास्थ्य अमिताभ अवस्थी के मुताबिक हिमाचल में टेस्टिंग भी बढ़ी है. इस वजह से ज्यादा केस आ रहे हैं. मामले बढ़ने की एक वजह यह भी है कि प्रदेश में बंदिशों के कारण कोरोना का पीक दूसरे राज्यों की तुलना में देरी से शुरू हुआ है.

कोरोना वैक्सीन के लिए शुरू हुई मैपिंग 

पीएम मोदी के निर्देशों के बाद हिमाचल में कोरोना वैक्सीन के लिए कोल्ड चेन की मैपिंग शुरू हो गई है. केंद्र के निर्देशों के तहत सबसे पहले हेल्थ केयर वर्करों का टीकारण होगा, जिसमें सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों के हेल्थ केयर वर्कर शामिल होंगे. प्रदेश में हेल्थ केयर वर्कर की संख्या 70 हजार है. सचिव स्वास्थ्य अमिताथ अवस्थी के मुताबिक फिलहाल प्रदेश के पास इतने वर्करों के लिए लाई जाने वाली वैक्सीन को रखने की पर्याप्त सुविधाएं हैं. टीकारण का काम फेज मैनर में होना है, इसलिए वैक्सीन को रखने के लिए तमाम प्रबंध किए जा रहे हैं. हालांकि अभी यह तय नहीं है कि कोरोना वैक्सीन कब तक उपलब्ध होगी, लेकिन उससे पहले वैक्सीन को स्टोर करने के लिए प्रबंध किए जा रहे हैं. गौरतलब है कि कोरोना वैक्सीन के लिए माइनस 2 डिग्री से लेकर 10 डिग्री तक तापमान की जरूरत रहती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज