Assembly Banner 2021

COVID-19: हिमाचल की सीमाओं से छह माह में दाखिल हुए 4,19,306 लोग

हिमाचल में कोरोना वायरस. (सांकेतिक तस्वीर)

हिमाचल में कोरोना वायरस. (सांकेतिक तस्वीर)

Corona Virus in Himachal: अब सरकार ने प्रदेश की सीमाएं खोल दी हैं. अब न तो सरकार के पास आने जाने वालों का रिकॉर्ड होगा और न ही कोरोना के बढ़ते मामलों पर अंकुश लग पाएगा. सरकार भले ही सोशल डिस्टेंस के नियमों का पालन करने के निर्देश दे रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 2:28 PM IST
  • Share this:
शिमला. कोरोना माहमारी (Corona virus) के चलते हिमाचल प्रदेश में बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. सरकारी आंकड़े के मुताबिक, पहली मई से लेकर 15 सितंबर तक प्रदेश में 419306 लोगों ने सीमाओं के भीतर प्रवेश (Entry) किया है, जिसमें सबसे ज्यादा पंजाब, हरियाणा (Haryana) और चंडीगढ़ की सीमा से जुड़ने वाले जिला ऊना में सबसे ज्यादा 96021 लोगों ने प्रवेश किया है. लाहौल स्पीति में सबसे कम मात्र 692 लोगों ने एंट्री की है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2,06,099 लोगों ने कोविड-ई पास के लिए आवेदन किया है, जिसमें 1,39,302 लोगों को अनुमति प्रदान की गई है.

छह माह में कितने लोग दाखिल हुए
आंकड़ों में दर्शाया गया है कि माहमारी के दौरान करीब छह जिला के लिए आवेदन करने वालों की संख्या लाखों में है, जबकि छः ऐसे जिला के लोग हैं, जिनकी संख्या हजारों में है. कोविड ई-पास के लिए छः माह में सबसे कम आवदेन लाहौल स्पीति जिला के आए हैं, जहां मात्र 1859 लोगों ने ई-पास के लिए आवेदन किया है, जिनमें 1831 लोगों को अनुमति दी गई. इसमें मात्र 692 लोगों ने ही जिला की सीमाओं के भीतर प्रवेश किया है.

सबसे ज्यादा आवेदन जिला कांगड़ा में
वहीं सबसे ज्यादा आवेदन जिला कांगड़ा के लिए किए गए. 4,58,261 लोगों ने आवदेन किए और 2,53,874 लोगों के अनुमति दी गई. 85,339 लोगों ने जिला में प्रवेश किया है. शिमला जिला की अगर बात करें तो 1,48,104 लोगों ने ई-पास के लिए आवदेन किया, जबकि 1,20,331 लोगों को अनुमति दी गई. हालांकि, इनमें 40,215 लोगों ने जिला की सीमाओं के भीतर प्रवेश किया. मंडी जिला में 95,975 आवेदनों में से 90,296 लोगों को अनुमति दी गई और 33,469 लोगों ने प्रवेश किया. सिरमौर में 2,59, 393 ने आवेदन किया, 1,93,773 को अनुमति और जबकि 21,106 ने प्रवेश किया. सोलन में 4,26, 256 ने आवेदन किया, 2,36,820 को अनुमति और 51,108 ने प्रवेश किया. कुल्लू में 36,195 ने आवेदन 17,910 को अनुमति और 12,242 लोग दाखिल हुए. किन्नौर में 5824 ने आवेदन, 4908 को अनुमति और 2533 ने किया प्रवेश. हमीरपुर में 1,06,501 आवेदन, 1,03,722 को अनुमति और 47437 को प्रवेश, चम्बा में 52,339 आवेदन, 29,554 को अनुमति और 9302 प्रवेश, बिलासपुर में 84,806 आवेदन 65,032 को अनुमति मिली, जबकि 19,842 लोगों ने प्रवेश किया.



बता दें कि प्रदेश सरकार ने यह आंकड़ा तब जारी किया जब राज्य की सीमाओं पर बिना पंजीकरण के कोई भी व्यक्ति आ जा सकेगा. सरकार के आंकड़ों पर गौर करें तो छः माह के भीतर कोरोना मरीजों का आंकड़ा 11 हजार के करीब पहुंच चुका है. हो चुका है जिसमें एक्टिव केस 4146 हैं जिसमें 6531मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि 89 लोगों की मौत हो चुकी है.

अब रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया बंद
अब सरकार ने प्रदेश की सीमाएं खोल दी हैं. अब न तो सरकार के पास आने जाने वालों का रिकॉर्ड होगा और न ही कोरोना के बढ़ते मामलों पर अंकुश लग पाएगा. सरकार भले ही सोशल डिस्टेंस के नियमों का पालन करने के निर्देश दे रही है, लेकिन बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों को खुला निमंत्रण देना कोरोना वायरस के मामलों को बढ़ाने के महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज