शिमला में कोरोना नियम दरकिनार: एस्पायर कोचिंग इंस्टिट्यूट खुला, लग रही कक्षाएं

शिमला के एस्पायर संस्थान में चल रही कोचिंग कक्षाएं.

Corona virus in Shimla: उच्चतर शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत शर्मा ने कहा कि सरकार के आदेशों के तहत 31 दिसंबर तक सभी तरह के शैक्षिणक संस्थान बंद हैं. विस्तार से आदेश जारी किए गए हैं और एसओपी भी जारी किए गए हैं.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल में कोरोना (Corona Virus) महामारी के चलते सरकार ने 31 दिसंबर तक सभी शिक्षण संस्थान (Education Institute) बंद रखने के आदेश दिए हैं. 50 से ज्यादा लोगों के एक साथ इकठ्ठे होने की मनाही है और भी कई तरह की पाबंदियां लगाई गई हैं. केंद्र और राज्य सरकार (State Govt.) की एसओपी (SOP) हैं, नियम कायदे हैं, थूकने तक की मनाही है, लेकिन राजधानी शिमला (Shimla) का एक कोचिंग (Coaching Classes) संस्थान खुला है और बड़े आराम से नियमित रूप से कक्षाएं लगाई जा रही हैं. दर्जनों बच्चों को एक साथ पढ़ाया जा रहा है.

हॉट स्पॉट है शिमला
एक तरफ हिमाचल की पुलिस शादियों में जा-जा कर देख रही है कि क्या नियमों की पालना हो रही है या नहीं, चालान किए जा रहे हैं, सभी जिलों के डीसी सख्ती बरतने की बात कहते नजर आते हैं और दूसरी तरफ राजधानी में न्यू शिमला में ही कोचिंग संस्थान खुला है. वैसे भी शिमला इस वक्त कोरोना के लिहाज से हॉट स्पॉट बना हुआ है. हर रोज प्रदेश में सबसे ज्यादा कोरोना के केस शिमला से ही आ रहे हैं. बीसीएस स्थित महिला थाने के ठीक नीचे एक एस्पायर नाम का कोचिंग इंस्टिट्यूट खुला है. News-18 के कैमरे पर सारी तस्वीरें कैद हो गई. कोचिंग संस्थान में 4 कक्षाओं में छात्र नजर आए. मास्क सभी ने पहने हुए थे लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग कहीं नहीं नजर आई.

एस्पायर के मालिक की दलील
आईआईटी और मेडिकल परीक्षाओं को लेकर कोचिंग देने वाले इस संस्थान के मालिक योगेंद्र कुमार मीणा News-18 की टीम को खुद हर क्लासरूम तक लेकर गए और बताया कि देखिए इस तरह से कक्षाएं लग रही हैं. योगेंद्र कुमार मीणा ने कहा कि संस्थान ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीके से छात्रों को पढ़ाई करवा रहा है. कुछ बच्चे हॉस्टल में हैं तो कुछ बच्चे न्यू शिमला और खलीणी से आते हैं. सुबह साढ़े 8 बजे से लेकर दोपहर 2 बजे तक कक्षाएं ली जाती हैं. केवल उन्हीं बच्चों को कक्षा में बैठने की अनुमति दी है जिन्होंने कन्सेंट फॉर्म दिया है और अभिवावकों ने सहमति दी है. कुछ पेरेंट्स बच्चों को खुद छोड़ने भी आते हैं. मीणा ने बताया कि इस वक्त 60 के आसपास छात्र नियमित रूप से कक्षाओं में आ रहे हैं. उनका कहना है कि सरकार के जो भी आदेश हैं, उनकी पालना की जा रही है. साथ ही कहा कि संस्थान के गेट पर ही सबका तापमान चैक किया जाता है, जिसका तापमान 99 डिग्री सेल्यिस से ज्यादा आता है उसे अंदर नहीं आने दिया जाता.

शिमला का एस्पायर संस्थान.


ये बोले पेरेंट्स
इस संस्थान में अपने बच्चों से मिलने पहुंचे अभिभावकों ने कहा कि उन्होंने अपनी कन्सेंट दी है, ताकि बच्चों की पढ़ाई जारी रहे. वो मान रहे हैं कि खतरा है लेकिन पढ़ाई भी जरूरी है. इस बाबत शिमला के डीसी आदित्य नेगी से संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया और न ही उन्होंने फोन उठाया. पुलिस से जब संपर्क किया गया तो एसपी मोहित चावला ने कहा कि मामले पर नियमों के तहत कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि जो भी सरकारी आदेश हैं. पुलिस उसकी पालना करवा रही है. इस तरह की कहीं भी कोई शिकायत हैं तो तुरंत पुलिस के ध्यान में लाएं.

उच्चतर शिक्षा निदेशक ये बोले
उच्चतर शिक्षा निदेशक डॉ. अमरजीत शर्मा ने कहा कि सरकार के आदेशों के तहत 31 दिसंबर तक सभी तरह के शैक्षिणक संस्थान बंद हैं. विस्तार से आदेश जारी किए गए हैं और एसओपी भी जारी किए गए हैं. उन्होंने कहा कि आदेशों के तहत किसी तरह की कक्षाएं नहीं लगाई जा सकती हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.