सरकारी स्कूल में कमरों के निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार, सरकार को लगाई लाखों की चपत

स्कूल को बेहतर शिक्षा देने के उद्देश्य से सीनियर सैकण्डरी से अपग्रेड कर मॉडल स्कूल का दर्जा दिया गया लेकिन ठेकेदार और पीडब्ल्यूडी की मिलीभगत से विद्यालय हादसों को न्यौता दे रहा है.

Pankaj Sharma | ETV Haryana/HP
Updated: March 14, 2018, 11:52 AM IST
सरकारी स्कूल में कमरों के निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार, सरकार को लगाई लाखों की चपत
Photo:news18
Pankaj Sharma | ETV Haryana/HP
Updated: March 14, 2018, 11:52 AM IST
शिमला जिले के कुपवी में राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय को अपग्रेड करने के नाम पर भ्रष्टाचार कर 6 कमरों की जगह मात्र दो कमरों का निर्माण कर सरकार को लाखों रुपए का चूना लगाया गया. नए भवन के लिए 36.86 लाख रुपए में 6 नए कमरे बनाने के सरकारी निर्देशों के बाद पीडब्ल्यूडी विभाग के ठेकेदार को 2013 में भवन निर्माण का काम दिया गया. विभागीय सांठगांठ के चलते ठेकेदार दो कमरों का ही निर्माण करवा रहा है जबकि सरकार से वह निर्माण की पूरी राशि ले चुका है.

चौपाल विधानसभा के दुर्गम क्षेत्र कुपवी का यह स्कूल भवन की कमी से जूझ रहा है. स्कूल को बेहतर शिक्षा देने के उद्देश्य से सीनियर सैकण्डरी से अपग्रेड कर मॉडल स्कूल का दर्जा दिया गया लेकिन, ठेकेदार और पीडब्ल्यूडी की मिलीभगत से विद्यालय हादसों को न्यौता दे रहा है. स्कूल भवन के छत की टूटी सीलिंग और बिजली की नंगे तार न जाने कब किसी मासूम को मौत के मुंह में धकेल दे. बावजूद इसके भ्रष्टाचारियों पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है.

स्कूल प्रबंधन घटिया और अधूरे काम को लेकर पीडब्ल्यूडी को कई बार शिकायतें कर चुका है लेकिन कार्रवाई के नाम पर अभी तक केवल आश्वासन दिया जा रहा है. भले ही हिमाचल सरकार बेहतर शिक्षा व्यवस्था के बड़े-बड़े दावे करती है लेकिन हकीकत किसी से छिपी नहीं है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर