लाइव टीवी

CITU नेता की धमकी के बाद आयुक्त के समर्थन में उतरे पार्षद और कर्मचारी यूनियन

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 9, 2019, 6:57 PM IST
CITU नेता की धमकी के बाद आयुक्त के समर्थन में उतरे पार्षद और कर्मचारी यूनियन
शिमला - पार्षद और निगम कर्मचारी संगठन निगम आयुक्त के समर्थन में नारेबाजी करते रहे

मामले ने इतना तूल पकड़ा कि एक तरफ सीटू (CITU) नेता तहबाजारियों (Vendors) की मांग को लेकर नारेबाजी करते रहे, वहीं दूसरी ओर निगम पार्षद और निगम कर्मचारी संघ निगम आयुक्त (Corporation commissioner) के समर्थन में नारेबाजी करते रहे.

  • Share this:
शिमला. देश का सबसे पुराना नगर निगम शिमला (Municipal Corporation Shimla) एक बार फिर सुर्ख़ियों में है. एक ओर जहां सीटू (CITU) नेता तहबाजारियों के समर्थन में निगम कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर नगर निगम शिमला के पार्षद और निगम कर्मचारी संगठन निगम आयुक्त (Corporation commissioner) के बचाव में उतर आए हैं. इन दिनों नगर निगम शिमला द्वारा शहर में जगह-जगह बैठने वाले तहबाजारियों को हटाने की मुहिम चल रही है. इसे लेकर सीटू तहबाजारियों के समर्थन (CITU supports Vendors) में विरोध प्रदर्शन कर रही है.

निगम आयुक्त ने सीटू नेता के खिलाफ पुलिस में शिकायत की

तहबाजारियों को नहीं उजाड़ने और उन्हें स्ट्रीट वेंडर एक्ट के तहत बसाने की मांग को लेकर सीटू नेताओं ने निगम आयुक्त को शनिवार को ज्ञापन सौंपा था. ज्ञापन पत्र पर हो रही बातचीत के दौरान सीटू नेता विजेंद्र मेहरा और निगम आयुक्त के बीच किसी बात को लेकर बहसबाजी हो गई. बहस इतनी बढ़ गई कि दोनों के बीच तू तू मैं मैं हो गई. बाद में सीटू नेता के इस अभद्र व्यवहार पर निगम आयुक्त ने पुलिस में शिकायत की.

सीटू नेता की गिरफ्तारी की मांग

सोमवार को एक बार फिर इस मामले ने इतना तूल पकड़ा कि एक तरफ सीटू नेता तहबाजारियों की मांग को लेकर नारेबाजी करते रहे, वहीं दूसरी ओर निगम पार्षद और निगम कर्मचारी संघ निगम आयुक्त के समर्थन में नारेबाजी करते रहे. पार्षदों और कर्मचारी नेताओं का कहना है कि शनिवार को हुए घटनाक्रम ने
माकपा समर्थित सीटू नेताओं और पार्टी की सोच को सार्वजानिक किया है. पार्षदों और कर्मचारी नेताओं का कहना है कि शनिवार को सीटू नेता द्वारा निगम आयुक्त के साथ किए अभद्र व्यवहार पर पुलिस जल्द से जल्द सीटू नेता को गिरफ्तार कर उचित कार्रवाई करे.

वीडियो रिकॉर्डिंग कोर्ट को भेजने की तैयारीनिगम कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष ओपी ठाकुर का कहना है कि निगम के कर्मचारी कोर्ट के आदशों पर कार्रवाई करते हैं. इस कार्रवाई के दौरान कई बार तहबाजारियों के साथ छीना-झपटी हो जाती है और कई बार निगम कर्मचारियों पर तहबाजारियों द्वारा हमला किया गया है. इसकी वीडियो रिकॉर्डिंग कोर्ट को भेजी
जाएगी. उन्होंने कहा कि निगम कर्मचारी कोर्ट के आदेश पर ही कार्रवाई करता है, लेकिन सीटू, तहबाजारियों के समर्थन में निगम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहा है.

ऐसे में निगम कर्मचारियों के लिए काम करना मुश्किल होगा

उन्होंने कहा कि जिस तरह से सीटू नेता ने निगम आयुक्त को चेतावनी दी है उससे निगम कर्मचारियों को काम करना मुश्किल हो जाएगा. उन्होंने बताया कि निगम आयुक्त के साथ हुए अभद्र व्यवहार पर कर्मचारी संघ ने डीसी और एसपी को ज्ञापन सौंपकर सीटू नेता को 24 घंटे के भीतर गिरफ्तार करने की मांग की
है. वहीं भाजपा और कांग्रेस के पार्षद भी निगम आयुक्त के समर्थन में उतर गए हैं. उन्होंने भी एसपी को शिकायत कर सीटू नेता को गिरफ्तार करने की मांग की है.

पार्षद और कर्मचारी यूनियन ने 24 घंटे के भीतर सीटू नेता विजेंद्र मेहरा को गिरफ्तार करने की मांग की.


खामियाजा जनता को भुगतना पड़ा

नगर निगम आयुक्त और सीटू नेता के बीच हुए विवाद का खामियाजा शहर की जनता को भुगतना पड़ा है. शनिवार को हुए प्रकरण के बाद सोमवार को निगम कार्यालय की ओर जाने वाले सभी रास्तों को पुलिस पहरे में तब्दील किया गया. निगम के सभी मुख्य गेट पर तैनात पुलिस के साथ आम लोगों को बहस करते
हुए भी देखा गया. गौरतलब है कि सीटू नेता के साथ हुई बहसबाजी के बाद शिमला पुलिस ने नगर निगम आयुक्त की सुरक्षा के लिए दो पुलिस कॉन्स्टेबल तैनात किए हैं.

ये भी पढ़ें - हिमाचल विधानसभा का शीत सत्र: पहले ही दिन कांग्रेस का हंगामा, वॉकआउट किया

ये भी पढ़ें - कृषि मंत्री ने कहा- एक पखवाड़े में सब्जी मंडियों में मिलेगा तुर्की का प्याज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 6:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर