Assembly Banner 2021

COVID-19: हिमाचल सरकार ने च्यूइंग गम की बिक्री पर तीन महीने के लिए लगाई रोक, ये है वजह

धीमान ने कहा कि जनहित में च्यूइंग गम, बबल गम और इस तरह के उत्पादों की बिक्री और इस्तेमाल पर 30 जून तक पाबंदी रहेगी.

धीमान ने कहा कि जनहित में च्यूइंग गम, बबल गम और इस तरह के उत्पादों की बिक्री और इस्तेमाल पर 30 जून तक पाबंदी रहेगी.

हिमाचल प्रदेश के खाद्य सुरक्षा आयुक्त और अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) आरडी धीमान (RD Dhiman) ने कहा कि COVID-19 लार, थूक आदि के जरिए भी फैलता है.

  • Share this:
शिमला. थूकने से कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के प्रसार की आशंका के मद्देनजर हिमाचल प्रदेश सरकार ने तीन महीने के लिए च्यूइंग गम (Chewing Gum) की बिक्री और इस्तेमाल पर रोक लगा दी है. खाद्य सुरक्षा आयुक्त और अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) आरडी धीमान ने कहा कि कोविड-19 लार, थूक आदि के जरिए फैलता है और च्यूइंग गम थूकने से इसका प्रसार होने की आशंका है. धीमान ने कहा कि जनहित में च्यूइंग गम, बबल गम और इस तरह के उत्पादों की बिक्री और इस्तेमाल पर 30 जून तक पाबंदी रहेगी.

बता दें कि हिमाचल प्रदेश में शनिवार को कोरोना वायरस के 7 नए मामले सामने आए. शिमला के आईजीएमसी अस्पताल में सात लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. तीन मरीज नालागढ़ से हैं. ये तीनों दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल हो कर लौटे थे, जबकि चार अन्य मरीज बद्दी की एक कंपनी की महिला के रिश्तेदार हैं. इस महिला की चंड़ीगढ़ पीजीआई में कोरोना से मौत हुई थी. हिमाचल प्रदेश के अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान ने सात नए मामले आने की पुष्टि की है. वहीं, आईजीएमसी के एमस डॉक्टर जनक राज ने भी पुष्टि की है.बता दें कि अब तक हिमाचल में 13 मामले आ चुके हैं.

आज 87 सैंपल लिए गए
जानकारी के अनुसार, आज हिमाचल में 87 कोरोना के कुल सैम्पल लिए गए थे. इनसे 54 आईजीएमसी शिमला और 33 टांडा (कांगड़ा) में सैंपल लिए गए हैं. आईजीएमसी के एमस डॉक्टर जनक राज ने बताया कि बद्दी के जिन 4 लोगों के सैंपल पॉजिटिव आए हैं, वे चारों लोग दिल्ली शिफ्ट हो गए हैं. बताया जा रहा है कि ये लोग मेंदाता अस्पताल गए हैं. वहीं, तीन मरीजों को आईजीएमसी शिमला जाया जा रहा है.
पुलिस विभाग को पीपीई किट व एन-95 मास्क के लिए एक करोड़ रुपये


मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने शनिवार को कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत प्रदेश में तैनात पुलिस कर्मियों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट और एन-95 मास्क की खरीद के लिए पुलिस विभाग को एक करोड़ रुपये (हि.प्र. कोविड-19 साॅलिडेरिटी रिस्पोंस फण्ड से 50 लाख रुपये तथा प्रदेश आपदा प्रतिक्रिया निधि से 50 लाख रुपये) की स्वीकृति प्रदान की. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार कोरोना वायरस से बचाव के लिए राज्य सरकार के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को सभी आवश्यक सुरक्षा उपकरण प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है.

(इनपुट- भाषा)

ये भी पढ़ें- 

Lockdown: राजस्थान में फंसे हैं कई विदेश पर्यटक, संपर्क साधने में जुटा विभाग

राजस्थान में आज 12 नए पॉजिटिव मामले आए सामने, 8 लोगों का संबंध तबलीगी जमात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज