Assembly Banner 2021

COVID-19: IGMC में 3 कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती, जांच में नहीं मिले कोरोना के लक्षण

शिमला का आईजीएमसी अस्पताल. (सांकेतिक तस्वीर)

शिमला का आईजीएमसी अस्पताल. (सांकेतिक तस्वीर)

हिमाचल (Himachal) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए मामले सामने आने से हड़कंप मच गया है. बीते दिनों ऊना जिले में कोरोना पॉजीटिव मामलों के सामने आने के बाद रविवार को 7 और नए मामले सामने आए हैं.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल (Himachal) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए मामले सामने आने से हड़कंप मच गया है. बीते दिनों ऊना जिले में कोरोना पॉजीटिव मामलों के सामने आने के बाद रविवार को 7 और नए मामले सामने आए हैं. इनमें निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz) के 3 जमाती शामिल हैं. इन तीनों को रविवार सुबह करीब 6:30 बजे शिमला के आईजीएमसी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. नालागढ़ से लाए गए इन तीनों मरीजों में से दो की उम्र 17 साल और एक 55 साल का बुजुर्ग शामिल है.

ये तीनों 18 मार्च को पहुंचे थे हिमाचल
आईजीएमसी के डॉक्टर जनकराज ने बताया कि शनिवार को 54 लोगों में कोरोना वायरस की जांच की गई थी जिसमें 7 लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट आई है. ये तीनों लोग यूपी के गाजियाबाद के रहने वाले हैं और ये प्रवासी मजदूर हैं. इस कारण से ये एक स्थान से दूसरे स्थान तक आते-जाते रहते हैं. ये तीनों 18 मार्च को हिमाचल पहुंचे थे.

बिना लक्षण के इसलिए की गई जांच
जनकराज ने बताया कि इन तीनों में किसी भी तरह के कोरोना वायरस के लक्षण नहीं थे, लेकिन ये लोग निजामुद्दीन मरकज में शामिल थे, इसलिए इनकी जांच की गई और जांच के बाद ये तीनों कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए. ऐसे में स्थिति अब यह हो गई है कि बाकी लोगों की भी जांच करना बहुत जरूरी हो गया है क्योंकि ऐसे ओर लोग हो सकते हैं जो कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हों.



सीएम ने जमातियों से की थी यह अपील
रविवार को मुख्यमंत्री ने भी सभी जमातियों से अपील की है कि जो भी जमाती हिमाचल में मौजूद हैं और मरकज़ में शामिल थे, वे खुद अपनी जानकारी पुलिस विभाग या स्वास्थ कर्मचारी को दे दें. रविवार शाम 5 बजे तक का जानकारी देने का समय रखा गया था. उसके बाद अगर कोई जमाती मिलता है तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

आईजीएमसी में बनाया गया 57 बेड का आइसोलेशन वार्ड
वहीं आईजीएमसी में मरीज़ों के इलाज के लिए प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद रहा. पॉजिटिव मामलों के लिए अस्पताल में 57 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है. इसमें 20 वेंटिलेटर भी हैं. इसके साथ ही आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी देने वाले सभी कर्मचारियों को PPET किट भी दे दी गई है. वार्ड में दो टीमें तैनात रहेंगी, जिसमें पैरामेडिकल, डॉक्टर्स और क्लास 4 के कर्मचारी होंगे. एक टीम सुबह ओर एक टीम शाम को तैनात होगी. सभी कर्मचारियों के 5-5 दिन के रोस्टर्स बना दिए गए हैं. 5 दिन के बाद सभी टीमों को भी 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन पर भेजा जाएगा, ताकी किसी में कोरोना वायरस के लक्षण दिखें तो इलाज के लिए तुरंत कदम उठाए जा सकें.

ये भी पढ़ें - 

COVID-19 Update: उत्तराखंड में 4 नए मामले, पॉजिटिव मामलों की संख्या 26 हुई

UP में तबलीगी जमात के 1499 लोग चिन्हित, इनमें से 138 लोग कोरोना वायरस संक्रमित
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज