हिमाचल में कोविड काल में बढ़ा साइबर क्राइम, निशाने पर युवतियां और महिलाएं

महिला के खिलाफ साइबर क्राइम बढ़ा है.
महिला के खिलाफ साइबर क्राइम बढ़ा है.

Cyber Crime in Himachal: डेजी ठाकुर ने बताया कि हैरानी के बात है कि महिलाओं के साथ घरेलू हिंसा की शिकायत तो आम है, लेकिन कोविड के दौरान साइबर क्राइम की शिकायतों में अचानक से हुई बढ़ोतरी हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2020, 1:14 PM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कोविड-19 (COVID-19) काल में महिलाओं के साथ घरेलू हिंसा के मामलों में बढ़ोतरी हुई है, लेकिन चौंकाने वाली यह बात है कि इस दौरान महिलाएं और युवतियां साइबर क्राइम (Cyber Crime) का भी अधिक शिकार हुई हैं. इससे जुड़ी शिकायतें पुलिस के साइबर सेल में दर्ज होने के साथ ही महिला आयोग (Hiimachal State Women Commission) के पास भी दर्ज हुई हैं.

महिला आयोग में जो शिकायतें कोविड 19 के दौरान दर्ज हुई हैं, उसमें अधिकतर शिकायत साइबर क्राइम से संबंधित है जिस पर आयोग भी गंभीर हो गया है. महिलाओं और युवतियों ने शिकायत दर्ज करवाई है कि उनकी फेक प्रोफ़ाइल या फोटो के साथ छेड़छाड़ की गई है.

क्या बोली महिला आयोग की अध्यक्ष
महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. डेजी ठाकुर ने कहा कि साइबर क्राइम के केस बढ़ गए हैं. इन मामलों में महिलायें या लड़कियां इस तरह की शिकायतें कर रही है कि उनकी आईडी हैक कर ली गई है.उनकी फोटो से छेड़छाड़ कर गलत फोटो बना कर वायरल की जा रही है या व्हाट्सएप पर उन्हें गलत मैसेज भेजे जा रहे हैं. इस तरह के मामलों में महिला आयोग कोर्ट के माध्यम से सुनवाई करता है, लेकिन कोविड के दौरान यह संभव नहीं हो पा रहा था तो साइबर क्राइम से जुड़े इन मामलों की शिकायत समाधान के लिए एसपी की ओर वहां के संबंधित थाना को भेजी गई है जिससे तुरंत समाधान मिल सके.
घरेलू हिंसा के मामले बढ़े


डेजी ठाकुर ने बताया कि हैरानी के बात है कि महिलाओं के साथ घरेलू हिंसा की शिकायत तो आम है, लेकिन कोविड के दौरान साइबर क्राइम की शिकायतों में अचानक से हुई बढ़ोतरी हुई है. इस तरह की शिकायत पुलिस के पास जाने के बजाए महिलाएं आयोग के पास खुल कर रख रही हैं. इसके पीछे की वजह यह भी है कि महिला आयोग ने एक माध्यम महिलाओं और युवतियों को दिया था कि वह अपनी शिकायत व्हाट्सएप के माध्यम से कर सकती है और उन्हें आयोग आने की आवश्यकता नहीं है. यही वजह बनी की महिलाओं और युवतियों में व्हाट्सएप नम्बर पर बहुत आसानी से शिकायत दर्ज की.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज